तबला सम्राट लच्छू महराज का निधन, काशी में ली अंतिम सांस

तबला सम्राट लच्छू महराज का निधन, काशी में ली अंतिम सांस
lachchu maharaj

लच्छू महाराज को बुधवार रात दिल का दौरा पड़ा था, परिजन उन्हें बीएचयू ले गए थे जहां देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली

वाराणसी. बनारस घराने के विख्यात तबला वादक पद्मश्री लच्छू महाराज की वह अंगुलियां खामोश हो गईं जो तबले पर पड़ती थी तो लोग मंत्रमुग्ध हो जाते। फिल्म अभिनेता गोविंदा के मामा व विश्व के सर्वश्रेष्ठ तबला वादक लच्छू महाराज लंबे समय से अस्वस्थ चल रहे थे। 

लच्छू महाराज को बुधवार रात दिल का दौरा पड़ा था। परिजन उन्हें बीएचयू ले गए थे जहां देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके निधन की सूचना मिलते ही बनारस समेत देश के तमाम संगीतज्ञों में शोक की लहर दौड़ गई है। उनका अंतिम संस्कार शुक्रवार को होगा। उनकी बेटी चंद्रा नारायणी जो अभी स्विट्जरलैंड में हैं, सूचना पाते ही वहां से रवाना हो गई हैं। देश के विभिन्न हिस्सों से संगीतज्ञों के बनारस में जुटने की संभावना है। 



लच्छू महाराज का जन्म 16 अक्टूबर 1944 को संकटमोचन इलाके में हुआ था। बचपन में तबले के प्रति ललक देख पिता वासुदेव के सानिध्य में तबला वादन सीखना शुरू किया था। लच्छू महाराज को भारत सरकार ने 1972 में पद्मश्री सम्मान से नवाजा था लेकिन उन्होंने उस वक्त पुरस्कार लेने से इंकार कर दिया था। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned