गोलियों की गूंज से दहला मुख्यमंत्री का बनारस

गोलियों की गूंज से दहला मुख्यमंत्री का बनारस
teachers murder in kashi

महावीर मंदिर के समीप ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर शिक्षक की हत्या,सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील क्षेत्र में हुए खूनी खेल ने कानून-व्यवस्था पर उठाए सवाल

वाराणसी.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल वाराणसी की कानून-व्यवस्था को चुनौती देते हुए बदमाशों ने संवेदनशील एरिया महावीर मंदिर के समीप एक शिक्षक की निर्मम तरीके से हत्या कर दी और फरार हो गए। बदमाशों ने भीड़भाड़ वाले इलाके में पिकेट से दस कदम की दूरी पर शिक्षक अभिनव सिंह के शरीर में आधा दर्जन गोलियां दागी जिससे पूरे इलाके में दहशत फैल गई। 
जानकारी के अनुसार जौनपुर के मूल निवासी अभिनव सिंह अपने परिवार के साथ कैंट थाना क्षेत्र के खुशहाल नगर इलाके में परिवार संग रहते थे। परिजनों के अनुसार बुधवार देर रात मोबाइल फोन पर किसी से बात करने के बाद वह घर से बाहर चले गए थे। घर से निकलकर अभिनव महावीर मंदिर चौराहा, अर्दली बाजार पहुंचे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार एसयूवी सवार कुछ लोगों से अभिनव बात कर रहे थे। अचानक एसयूवी सवार गाड़ी से उतरे और अभिनव को घेरकर ताबड़तोड़ गोलियों की बौछार कर दी। गोली मारने के बाद बदमाश असलहा लहराते हुए भाग निकले। घटनास्थल से चंद कदम पर मौजूद पुलिसकर्मी बस्र्ट फायरिंग होने पर दुबक गए। गोलियों की गूंज से इलाके में दहशत फैल गई। वायरलेस पर सूचना प्रसारित होते हुए कई थानों की फोर्स पहुंच गई। खून से लथपथ शिक्षक को मलदहिया स्थित एक निजी अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 
जानकारी के अनुसार पेशे से शिक्षक अभिनव मनबढ़ प्रवृत्ति का था। सूत्रों के अनुसार शिक्षक के ऊपर कुछ मुकदमें भी हैं। अभिनव जमीन की खरीद-फरोख्त के धंधे से भी जुड़ा था। जौनपुर में कुछ दिनों पूर्व एक जमीन को लेकर हुई पंचायत में भी अभिनव का नाम उछला था। उसका रवैया जमीन के धंधे से जुड़े लोगों को खटक रहा था। 
सुरक्षा-व्यवस्था पर सवाल
काशी में आधा दर्जन से अधिक आतंकी वारदात हो चुकी है। प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र होने के कारण वाराणसी की संवेदनशीलता और बढ़ गई है। बदमाशों ने जिस इलाके में हत्या की है वह जिला मुख्यालय और पुलिस आफिस से एक किलोमीटर से भी कम दूरी पर है। घटनास्थल से दस कदम की दूरी पर प्रसिद्ध महावीर मंदिर है जहां दर्शन-पूजन करने के लिए भक्तों का दिन-रात आनाजाना लगा रहता है। भीड़भाड़ वाले इलाके में हुई निर्मम हत्या ने सुरक्षा- व्यवस्था के बाबत पुलिस की देर रात मुस्तैदी के दावे को चुनौती दी है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned