scriptTent city to be built on sand in Varanasi From Navratri to Shivratri | Varanasi Tent City : वाराणसी में रेत पर बसेगा टेंट सिटी, नवरात्रि से शिवरात्रि तक रहेगा | Patrika News

Varanasi Tent City : वाराणसी में रेत पर बसेगा टेंट सिटी, नवरात्रि से शिवरात्रि तक रहेगा

Varanasi Tent city यूपी की योगी सरकार की नई पहल। रेत पर बसेगा तंबुओं का शहर। नवरात्रि से शिवरात्रि तक वाराणसी में टेंट सिटी बसेगा। जैसलमेर के सेंड ड्यून्स और ग़ुजरात के रन ऑफ कच्छ के तर्ज़ पर काशी का टेंट सिटी होगा। वाराणसी विकास प्राधिकरण ने इसके लिए जारी किया है, एक्सप्रेशन ऑफ़ इंटरेस्ट। जाने क्या है Varanasi Tent city

वाराणसी

Published: May 04, 2022 10:59:20 pm

यूपी की योगी सरकार की नई पहल। रेत पर बसेगा तंबुओं का शहर। पर्यटन उद्योग को मिलेगा नया आयाम। नवरात्रि से शिवरात्रि तक वाराणसी में टेंट सिटी बसेगा। जान्हवी के तट पर धर्म, अध्यात्म व संस्कृति के संगम का नया अध्याय टेंट सिटी होगा। जैसलमेर के सेंड ड्यून्स और ग़ुजरात के रन ऑफ कच्छ के तर्ज़ पर काशी का टेंट सिटी होगा। वाराणसी विकास प्राधिकरण ने इसके लिए जारी किया है, एक्सप्रेशन ऑफ़ इंटरेस्ट। काशी के घाटों का आकर्षण पूरी दुनिया में है। काशी का अल्हड़पन व गंगा किनारे बसे घाटों की जिंदगी,उनके जीवन का दर्शन व गंगा के एहसास के लिए यहां पूरे विश्व से लोग आते है। दुनिया का सबसे प्राचीन व जीवंत शहर काशी में अब टेंट सिटी बसने जा रहा है। टेंट सिटी काशी के ऐतिहासिक घाटों के ठीक सामने रेत पर क़रीब नवरात्रि से शिवरात्रि तक बसेगा। गंगा के किनारे इस तम्बुओं के शहर से आप ख़ूबसूरत अर्धचंद्राकार 84 घाटों का नजारा देख सकेंगे।
Varanasi Tent City : वाराणसी में रेत पर बसेगा टेंट सिटी, नवरात्रि से शिवरात्रि तक रहेगा
Varanasi Tent City : वाराणसी में रेत पर बसेगा टेंट सिटी, नवरात्रि से शिवरात्रि तक रहेगा
वाराणसी विकास प्राधिकरण जारी की एक्सप्रेशन ऑफ़ इंटरेस्ट

टेंट सिटी में पर्यटकों के लिए खान-पान, पारंपरिक मनोरंजन,अध्यात्म व कॉरपोरेट वर्ल्ड के लिए सेमिनार व कांफ्रेंस करने की भी सुविधाएं होंगी। चांदनी रात में टेंट सिटी की आभा देखने लायक होगी। होटल के बजाय गंगा के किनारे रुकना और सुबह उठकर मां गंगा के दर्शन के साथ घाट की सुंदर आभा को निहारना भी नए अनुभव के रूप में शामिल होगा। वाराणसी विकास प्राधिकरण ने इसके लिए एक्सप्रेशन ऑफ़ इंटरेस्ट जारी कर चुकी है जिसकी अंतिम तिथि 15 मई 2022 राखी गई है।
यह भी पढ़ें

ललितपुर : थाने में ही नाबालिग से रेप करने वाला आरोपी एसएचओ तिलकधारी सरोज प्रयागराज से गिरफ्तार

टेंट सिटी में होगी हर सुविधा

काशी में योगी सरकार पर्यटकों को बेहतर सुविधा देने के लिए गंगा के किनारे टेंट सिटी बनाने का प्रस्ताव ला रही है। वाराणसी विकास प्राधिकरण की उपाध्यक्ष ईशा दुहन ने बताया कि, गंगा के उस पार अस्सी घाट के सामने रेत पर रामनगर के कटेसर क्षेत्र में लगभग 500 हेक्टेयर में तंबुओं का शहर बसाया जाएगा। जो जरूरत के मुताबिक बढ़ाया जा सकता है। यहां धर्म,अध्यात्म व संस्कृति का संगम होगा। टेंट सिटी में हर व सुविधा होगी जो किसी पर्यटन स्थल पर होती है। यहां ठेठ बनारसी खान पान के साथ पारम्परिक सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आनंद खुली हवा में ले सकेंगे। इसके साथ ही वाटर एडवेंचर स्पोर्ट्स (जेट स्की, बनाना बोट पैरासेलिंग, कैमल और हॉर्स राइडिंग, फिसिंग) का लुफ़्त भी पर्यटक ले सकेंगे। टेंट सिटी में रहकर पर्यटक निर्मल व अविरल गंगा के कोलाहल के बीच टेंट में घर जैसे माहौल पाएंगे।
यह भी पढ़ें

एडीआर की रिपोर्ट : यूपी में 40 प्रतिशत एमएलसी के खिलाफ आपराधिक मामले

टेंट सिटी नवरात्रि से शिवरात्रि तक रहेगा

ईशा दुहन ने आगे बताया कि, योग, मेडिटेशन,लाइब्रेरी,आर्ट गैलरी के लिए शांत जगह होगी। पर्यटकों के पैकेज टूर में भी टेंट सिटी नजर आएगी। देशी विदेशी पर्यटकों को उनके मनपसंद का व्यंजन भी उपलब्ध होगा। सुबहे-ऐ-बनारस के साथ ही गंगा किनारे सुबह व शाम मां गंगा की आरती होगी। मोक्ष की नगरी काशी से प्राप्त दिव्य ज्ञान को पर्यटक मनरूपी रेत पर अपनी अनुभूति की आकृति भी उकेर पाएंगे। जेटी होगी जहां से आप गंगा में सैर करने के लिए क्रूज़ व बजरे पर सवार हो सकेंगे। टेंट सिटी नवरात्रि के आस-पास शुरू होकर शिवरात्रि के आस-पास तक रहेगा। गंगा में बाढ़ के समय रेत पर पानी आने के कारण तम्बुओं का हटा दिया जायेगा।
तम्बुओं के डेरे में देखेंगे बनारस

ईशा दुहन ने बताया कि, आकड़ोंं के अनुसार पीक सीज़न में पर्यटकों के आमद से होटल में कमरे कम पड़ जाते है। जिसमे ये योजना मददगार साबित होगी। सरकार चाहती है कि काशी आना वाला पर्यटक कम से कम 7 दिनों तक यहां रुके। यहाँ के मंदिर जो धर्म और आध्यात्म से जोड़ते हैं, वहीं बुद्ध की तपोस्थली सारनाथ जीवन के दर्शन को समझाता है। तो तम्बुओं के डेरे में उनको बनारस के सभी रस की अनुभूति कराई जाएगी। पहले कि सरकारों ने बनारस में पर्यटन उद्योग को लेकर कोई ठोस योज़ना नहीं बनाई थी। पहले कछुआ सेंचुरी के कारण गंगा पार रेती में किसी तरह के आयोजन पर एनजीटी का आदेश आड़े आ रहा था, लेकिन बीजेपी सरकार के प्रयास से कछुआ सेंचुरी शिफ़्ट होने के बाद इस समस्या का भी समाधान हो गया है और गंगा पार फैली रेती को पर्यटन का नया केंद्र बनाने की तैयारी शुरू हो गई है।
तम्बुओं के शहर से दूरी जानें

तम्बुओं के इस शहर में पूरी दुनिया में मशहूर वाराणसी साड़ी, बनारसी ब्रोकेड, लकड़ी के ख़िलौने, गुलाबी मीनाकारी स्टोन कार्विंग के साथ ही जीआई उत्पाद व वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट भी होंगे। धर्म की राजधानी काशी में मूलभूत सुविधाएं तेजी से विकसित हुई है। जल,थल व नभ से देश दुनिया से जुड़ने के कारण यहांं व्यापारिक गतिविधियां तेजी से बढ़ती जा रही है। टेंट सिटी एनएच -19 से महज 4 किमी, रामनगर फोर्ट 1 किलोमीटर, वाराणसी रेलवे स्टेशन 10 किमी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन से 13 किलो और वाराणसी एयरपोर्ट से 33 किमी की दूरी पर होगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Bharat Drone Mahotsav 2022: दिल्ली में ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन कर बोले मोदी- 2030 तक ड्रोन हब बनेगा भारतपहली बार हिंदी लेखिका को मिला International Booker Prize, एक मां की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीकोलकाता में ये क्या हो रहा... एक और मॉडल Manjusha Niyogi की लाश मिलीKuldeep Ranka : कौन हैं ये IAS, जिनसे 'ज़लालत' महसूस कर Gehlot के मंत्री ने कर डाली इस्तीफे की पेशकश!Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चRCB के खिलाफ दूसरे क्वालीफायर मैच से पहले राजस्थान रॉयल्स को लगा बड़ा झटका, यह ऑलराउंडर IPL से हुआ बाहरResearch on Birds : इंसान ही नहीं पक्षी भी लेते हैं लोकतांत्रिक तरीके से निर्णय
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.