BREAKING NEWS कटा टिकट तो योगी की शरण में पहुंचे ये बसपा नेता

BREAKING NEWS कटा टिकट तो योगी की शरण में पहुंचे ये बसपा नेता
bsp leaders with yogi

आठ महीने तक कैंट विस क्षेत्र में मेहनत के बाद दूसरे को टिकट मिलने से मायूस

वाराणसी. बहुजन समाज पार्टी की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। पार्टी की नीतियों व रीति से एक-एककर लोग पार्टी से किनारा कर रहे हैं। अगर ऐसा ही चलता रहा तो फिर बसपा के लिए आगामी विस चुनाव बहुत कठिन होगा।

वाराणसी के कैंट विधानसभा क्षेत्र से बसपा के टिकट पर चुनाव लडऩे की तैयारी कर रहे बसपा नेता सुनील शुक्ला टिकट कटने से नाराज होकर बीजेपी के फायर ब्रांड नेता और सांसद आदित्यनाथ योगी की शरण में पहुंच गए हैं। बसपा नेता के योगी के शरण में पहुंचने की खबर से बसपा के खेमे में हलचल है। 

काशी हिंदू विश्वविद्यालय के छात्र रहे दवा कारोबारी बसपा नेता सुनील शुक्ला पिछले आठ महीने से वाराणसी के कैंट विस क्षेत्र से बसपा का प्रचार कर रहे थे। ब्राह्मण वोट बैंक पर खासी पकड़ भी बना ली थी। पार्टी के प्रमुख नेताओं से आश्वासन मिलने के बाद वह बतौर बसपा प्रत्याशी प्रचार-प्रसार में जुटे थे। 


बसपा नेता की सारी कवायद उस समय धरी रह गई जब पता चला कि पार्टी ने रिजवान अहमद को कैंट विस क्षेत्र से टिकट थमाने की घोषणा कर दी। पार्टी के इस फैसले से भौचक सुनील शुक्ला के समझ में नहीं आया कि अब क्या करें। असमंजस के बीच गुरु पूर्णिमा के अवसर पर हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं संग वह गोरखपुर पहुंचे और गोरक्ष पीठ में योगी आदित्यानाथ से आशीर्वाद मांगा। 


बसपा नेता सुनील शुक्ला का कहना है कि टिकट कटने से मन व्यथित हैं क्योंकि मैं पार्टी का समर्पित कार्यकर्ता हूं। मन इसलिए दुखी है क्योंकि कुछ लोगों ने पार्टी में ऊपर मेरी गलत छवि पेश की और अपने पसंदीदा उम्मीदवार को टिकट थमा दिया। कैंट विस क्षेत्र में बसपा का झंडा लेकर मैंने बहुत मेहनत की लेकिन पार्टी में मौजूद कुछ लोगों के चलते मेरा टिकट काट दिया गया। 

बसपा नेता ने बीजेपी या अन्य किसी पार्टी में शामिल होने के सवाल पर कहा कि फिलहाल में बसपा में ही बना हूं और रहूंगा। भविष्य में क्या होगा मुझे नहीं मालूम लेकिन पार्टी मेरी मेहनत और निष्ठा का सम्मान करेगी तो निश्चित तौर मैं बसपा का सिपाही बना रहूंगा अन्यथा विकल्प तो सभी के सामने हैं। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned