वाराणसी. धर्म नगरी काशी की बात ही निराली है। वो काशी जिसे स्वयं बाबा विश्वनाथ ने बसाया और यह आशीर्वाद दिया कि यहां जीते जी कोई भूखा नहीं रहेगा और मरने पर मिलेगा मोक्ष। उस काशी के उत्सव, परंपरा भी एक से बढ़ कर एक है। फिर खान-पान के मामले में तो काशी का कोई जोड़ ही नहीं। इस लघु भारत में वो सब कुछ उपलब्ध है जिसे इस देश का खांटी व्यंजन कहा जाता है। यहां का बाटी चोखा मशहूर है तो यहां की खिचड़ी भी कम मशहूर नहीं।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned