वाराणसी में खुला अनोखा बैंक, पैसे की जगह डाला जाता है कचरा, रोजाना दो टन पॉलीथिन होता है इकट्ठा

प्लास्टिक कम है तो उसे उस प्लास्टिक के कचरे के बदले कपड़े का झोला या फेस मास्क दिया जाता है।

By: Karishma Lalwani

Published: 05 Apr 2021, 11:18 AM IST

वाराणसी. जिले में पर्यावरण को साफ और स्वच्छ रखने के लिए एक ऐसा बैंक तैयार किया गया है, जिसमें से पैसा नहीं बल्कि प्लास्टिक के कचरे का लेनदेन होता है। यह बैंक काशी के मलदहिया में स्थित है। बैंक का नाम प्लास्टिक वेस्ट बैंक है। लोग इसमें प्लास्टिक डालते हैं और इससे प्लास्टिक के कचरे से लेनदेन होता है। इससे सड़कों पर प्लास्टिक फेंकने से फैलने वाली दुर्गंध से छुटकारा मिलता है साथ ही लोगों में पर्यावरण को स्वच्छ बनाने का संदेश भी पहुंचता है। ये प्लास्टिक शहर के लोग, प्लास्टिक वेस्ट बैंक के वालिंटियर, उपभोक्ता यहां लाकर जमा करते हैं। प्लास्टिक कम है तो उसे उस प्लास्टिक के कचरे के बदले कपड़े का झोला या फेस मास्क दिया जाता है। प्लास्टिक अधिक मात्रा में लाने पर वजन अनुसार पैसे दिए जाते हैं। यह कार्य पीपीई मॉडल के आधार पर किया जा रहा है।

रोजाना दो टन पॉलीथिन होता है इकट्ठा

नगर आयुक्त गौरांग राठी के अनुसार पीपीई मॉडल पर केजीएन व यूएनडीपी काम कर रही है। 10 मीट्रिक टन का प्लांट पहले ही आशापुर इलाके में लगा है। इसमें काम करने वाली कंपनी के निदेशक साबिर अली ने कहा कि एक किलो पॉलीथिन के बदले छह रूपये दिए जाते हैं जो आठ से 10 रुपये किलो बिकता है। शहर से रोजाना करीब दो टन पॉलीथिन कचरा एकत्र होता है। 25 रुपया किलो इस्तेमाल की हुई पीने के पानी की बोतल भी खरीदी जाती है। इसे प्रोसेस किया जाता है, जिसके बाद इसे 32-35 रुपये में बेचा जाता है। उन्होंने कहा कि कचरे में इस्तेमाल होने वाला प्लास्टिक बाल्टी, डिब्बे, मग आदि 10 रुपये किलो खरीदा जाता है। इसके अलावा कार्डबोर्ड आदि रीसाइकिल होने वाला कचरा भी बैंक लेता है। बैंक में जमा प्लास्टिक को आशापुर स्थित प्लांट में जमा किया जाता है।

रीसाइकिल के लिए भेजते हैं कचरा

प्लास्टिक के कचरे को प्रेशर मशीने से दबाया जाता है। प्लास्टिक को अलग किया जाता जिनमे पानी की बोतल को हाइड्रोलिक बैलिंग मशीन से दबाकर बण्डल बनाकर आगे के प्रोसेस के लिए भेजा जाता है। इसे कानपुर समेत दूसरी जगहों पर भेजा जाता है जहां मशीन द्वारा प्लास्टिक के कचरे से प्लास्टिक की पाइप, पॉलिस्टर के धागे, जूते के फीते और अन्य सामग्री बनाई जानी होती है। नगर निगम की इस पहल में प्लास्टिक के कचरे को निस्तारण के लिए इस बैंक का निर्माण हुआ है।

ये भी पढ़ें: 8 अप्रैल से शुरू होगा फोकस टीकाकरण, हर क्षेत्र के लोगों के लिए तय हुई कोरोना वैक्सीन लगवाने की अलग तारीख

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned