कांवड़ यात्रा में मदद करेगी ग्राम समिति, भक्तों के लिए किया जायेगा रूट डायवर्जन

कांवरियों से प्लास्टिक का न्यूनतम उपयोग करने की अपील, डीजे पर कुछ नहीं बोले अधिकारी

By: Devesh Singh

Published: 20 Jul 2018, 09:24 PM IST

Varanasi, Uttar Pradesh, India

वाराणसी. सावन में शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा में सुरक्षा के सख्त बंदोबस्त किये जायेंगे। रुट डायर्वजन के साथ ग्राम समितियों से भी सहयोग लिया जायेगा। सीएम योगी आदित्यनाथ इस कांवड यात्रा को इक्रो फ्रेंडली बनाने की अपील की है इसलिए यात्रा में शामिल होने वाले बहुत जरूरी होने पर ही प्लास्टिक का प्रयोग करे। यह बात प्रमुख सचिव अरविंद कुमार व डीजीपी ओमप्रकाश सिंह ने बनारस में कांवड़ यात्रा की तैयारियों की समीक्षा के बाद मीडिया से कही।
यह भी पढ़े:-मुन्ना बजरंगी की मौत के बाद बाहुबलियों ने बदली रणनीति, लोकसभा चुनाव में यह बन रहा समीकरण



उन्होंने कहा कि बनारस, आजमगढ़, इलाहाबाद व मिर्जापुर मंडल के विभिन्न विभाग के अधिकारियों को कांवड़ यात्रा की तैयारियों की जानकारी दे दी गयी है। जिन रास्तों से कांवरियों को जाना है वहां की सड़क, ट्रैफिक, बिजली के तार आदि सभी चीजों को ठीक कर दिया जाये। ग्राम समितियों व विभिन्न शांति समितियों के साथ बैठक कर कांवड़ यात्रा का रूट तय कर लिया जाये। शांति समिति की बैठक करके उनका पूरा सहयोग लिया जाये। स्वास्थ्य विभाग से कांवड़ रूट पर मेडिकल कैंप, एम्बुलेंस, अस्पतालों में बेड रिजर्व करने की व्यवस्था कर लेने को कहा गया है। ट्रैफिक विभाग से कहा गया है कि कांवड़ यात्रा के दौरान सड़क दुर्घटना रोकने के सारे उपाय किये जाये। यदि किसी कारण से दुर्घटना हो जाती है तो जल्द से जल्द मौके पर पहुंच कर राहत के उपाय किये जाये। प्रमुख सचिव ने कहा कि पूर्व वर्ष की तरह इस बार भी हेलीकॉप्टर से कांवरियों पर पुष्प वर्षा की जायेगी।
यह भी पढ़े:-मां को मौत से बचाने में बेटी झुलसी, फिर भी बचा नहीं पायी जान

डीजीपी ने कहा अधिक से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे
डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि कांवड़ यात्रा के दौरान सुरक्षा के सख्त बंदोबस्त किये गये हैं। कांवड़ रूट, शिविर व मंदिर क्षेत्र में अधिक से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाये जायेंगे। ड्रोन से कांवड़ यात्रा पर नजर रखी जायेगी। असमाजिक तत्वों पर पुलिस की सख्त कार्रवाई होगी। कांवड़ यात्रा के दौरान पीआरवी को भी समुचित उपयोग किया जायेगा। पुलिस प्रशासन से कह दिया गया है कि संवेदनशील जगहों पर पुलिस की गश्त सुनिश्चित की जाये। गंगा घाट पर गोताखोरों की व्यवस्था की गयी है साथ ही पुलिस विभाग से कहा गया है कि ट्रैफिक का इमरजेंसी रुट पहले से निर्धारित कर लिया जाये। इससे आवश्यकता पडऩे पर उसका उपयोग किया जा सके।
यह भी पढ़े:-बनारस में फिर अपराधी बेलगाम, रोकने में पुलिस नाकाम

डीजे पर कुछ नहीं बोले प्रमुख सचिव व डीजीपी
मीडिया ने जब डीजे बजाने को लेकर प्रश्र किया तो प्रमुख सचिव व डीजीपी बिना जवाब दिये ही वहां से चले गये। इससे अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि किस समय व कितने डेसीबल तक डीजे बजाया जा सकता है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सार्वजनिक सभाओं में कहा था कि कांवड़ यात्रा में डीजे पर रोक नहीं लगा सकते हैं क्योंकि यह भक्तों की खुशी वाली यात्रा होती है। यूपी सरकार ने डीजे के डेसीबल का मानक व समय निर्धारित किया हुआ है।
यह भी पढ़े:-मनी एक्सचेंज काउंटर से टप्पेबाजी कर उड़ाये15 हजार रियाल

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned