scriptVaranasi Gyanvapi Controversy Update News Opinion | ज्ञानवापी विवाद में उलझा शहर बनारस ,मन में उठ रहे कई स्वाल,पढ़िए पूरी खबर | Patrika News

ज्ञानवापी विवाद में उलझा शहर बनारस ,मन में उठ रहे कई स्वाल,पढ़िए पूरी खबर

शिवलिंग है या नहीं, की बहस में फंसे वाराणसी के लोग

वाराणसी

Published: May 21, 2022 05:38:03 pm

वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद बीते कुछ दिनों से चर्चा का विषय बना हुआ है, लोगों के अलग-अलग दावों के बीच बनारस में कश्मकश की स्थिति बनी हुई है। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने ज्ञानवापी मामले पर अपने आदेश में कहा कि इस मामले की सुनवाई अब सिविल कोर्ट के बजाय जिला अदालत करेगी लेकिन स्थानीय लोग शिवलिंग था या नहीं इसकी बहस में लगे हुए हैं। ज्ञानवापी में फिलहाल शिवलिंग के दावे वाली जगह पर सुरक्षा की रखी गई है और नमाजियों को मस्जिद में नमाज पढ़ने की अनुमति भी होगी। जिस जगह पर यह दावा किया गया है उधर करीब 7 से 8 पैरामिलिट्री फोर्स के जवान तैनात हैं और कड़ी निगरानी रखे हुए हैं।
ज्ञानवापी विवाद में उलझा शहर बनारस ,मन में उठ रहे कई स्वाल,पढ़िए पूरी खबर
ज्ञानवापी विवाद में उलझा शहर बनारस ,मन में उठ रहे कई स्वाल,पढ़िए पूरी खबर

मस्जिद में नमाज पढ़ने वाली जगह के बाहर पुलिस ने भी सुरक्षा व्यवस्था संभाली हुई है। नमाज पढ़ने जाने से पहले सभी की चेकिंग की जाती है और संदिग्धों से पूछताछ भी होती है। वाराणसी के कुछ निवासी इसे राजनीति बता रहे हैं तो कोई शिवलिंग तो फव्वारे का ही दावे कर रहे हैं। वाराणसी के निवासी महताब अली कहते हैं यह सर्वे और अन्य चीजें बनारस में सिर्फ राजनीति के कारण हो रही हैं, 1991 के तहत जब कानून बन चुका है तो फिर उसके बाद सर्वे और खुदाई का क्या मतलब रह जाता है। यहां के तमाम मुसलमान वहां नमाज पढ़ते है और वुज़ू खाने में ही वुजू करते हैं, लेकिन अब यह सब होना बहुत गलत है।
यह सिर्फ अकेली मस्जिद नहीं जहां इस तरह का फव्वारा है, अन्य कई मस्जिदों में इसी तरह वुजू खाना है। इसके मुताबिक तो सभी जगहों पर शिवलिंग ही है। विवाद वाली जगह से थोड़ी ही दूर रेस्टोरेंट संचालक हरि प्रकाश सिंह ने बताया कि जब से यह सर्वे शुरू हुआ है और यह मामला चला है तब से रेस्टोरेंट में ग्राहकों ने आना बंद कर दिया है। टूरिस्ट भी पहले के मुकाबले कम है। लगता है सर्वे से लोगों में डर बैठा हुआ है। हालांकि कॉरिडोर बनने से बहुत फायदा हुआ है। सरकार यदि कोई बहतर विकल्प तलाशे तो और बेहतर व्यापार होगा और यदि यहां शिवलिंग ही मिलता है तो इससे और व्यापार बढ़ेगा।

काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रोफेसर नागेंद्र पांडेय ने आईएएनएस को बताया कि क्योंकि यह मामला अदालत में चला गया है तो न्यायालय में इतना विवेक और समय है कि वह दूध का दूध पानी का पानी कर सकें। हिंदू और मुस्लिम पक्षों पर बवाल नहीं करना चाहिए। शांति बनाए रखनी चाहिए और निष्कर्ष का इंतजार करना चाहिए। यदि आप हिंदू और मुस्लिम पक्षों से व्यक्तिगत रूप से पूछेंगे तो दोनों पक्षों के दावे सभी को पता हैं। हालांकि पहले या अभी भी कोई देखे तो वो पूरा मंदिर का ही ढांचा है। फूल पत्र बना हुआ है, डमरू और त्रिशूल बना हुआ है। यह मंदिर में ही मिलते हैं न कि मस्जिद में।

यह साफ है कि हिंदू और मुस्लिम पक्ष अपने-अपने दावों पर बरकरार हैं मुस्लिम समाज के लोगों की माने तो यह फव्वारे को बेवजह शिवलिंग बना दिया जा रहा है। बनारस में भाई चारा हमेशा कायम रहेगा लेकिन कुछ लोग माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। वहीं हिंदू पक्षों के तमाम लोग कह रहे हैं कि हमारे दूसरे समाज के भाई खुद कह रहे हैं कि वहां जो भी होगा हम उसे मानेंगे तो हम भी उनका सम्मान करते हैं। लेकिन सांसद ओवैसी कयामत तक लड़ने की बात कर रहे हैं। पहले कोर्ट का सम्मान करने की बात और फिर कयामत तक लड़ने की बात कहना गलत है। इसके अलावा काशी विश्वनाथ मंदिर के पास एक दुकान संचालक आमिर बताते हैं कि, जिसको यह शिवलिंग कह रहे हैं उस तरह की तमाम कारीगरी हमारे देश में होती है। लेकिन सिर्फ दो समुदायों को बांटना है तो आप कुछ भी कहिये, हम कोर्ट में यकीन रखते हैं फैसला जो होगा मंजूर होगा लेकिन इनसे (हिंदू पक्ष) भी पूछिए क्या इन्हें मंजूर होगा ?

मैं सभी से यह पूछना चाहता हूं कि यह तय कौन करेगा कि यह क्या है ? कानून ही कहता है कि निर्दोष को कभी सजा नहीं मिलनी चाहिए लेकिन जिस तरह की चीजें हो रही हैं, हम सभी को दोषी बनाया जा रहा है। इन सब बहस के बीच विशेष कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह द्वारा अदालत में दूसरे चरण की रिपोर्ट भी पेश की जा चुकी है जो कि लीक हो गई। उनकी रिपोर्ट में भी इस बात का दावा किया गया है कि हिंदू प्रतीकों के चिन्ह प्राप्त हुए हैं। वहीं मस्जिद की दीवारों पर कमल, डमरू और त्रिशूल के प्रतीक चिन्ह मिलने के बारे में भी रिपोर्ट में बताया गया है। इससे पहले पूर्व कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा ने भी अपनी रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें उन्होंने 10 प्रतिशत ही काम किया है लेकिन उसमें उन्होंने कुछ चीजें ऐसी देखीं जो इसके मंदिर होने की तरफ इशारा करती हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

मैं ऐसे भारत में नहीं रहना चाहती...' देवी मां काली विवाद पर महुआ मोइत्रा का ट्वीट- दर्ज कर लो FIR, अदालत में मिलूंगीविधायक पल्लवी पटेल की हालत गंभीर, सिराथू से डिप्टी सीएम केशव मौर्या को हराया था चुनावमोदी सरकार में ज्योतिरादित्य सिंधिया का कद बढ़ा, एक और बढ़ी जिम्मेदारी मिलीहिस्ट्रीशीटर सलमान चिश्ती के मोबाइल फोन की बरामदगी से खुलेंगे राजआकाश से गिरी आफतः आठ लोगों की मौत, 15 गंभीर घायलMumbai News Live Updates: मुंबई के हीरानंदानी पवई इलाके में शॉपिंग मॉल में लगी भीषण आग, 12 फायर ब्रिगेड की गाडियां मौके पर पहुंचीराजस्थान में अगले चार दिन भारी बारिश के आसार, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्टMaharashtra Politics: शिवसेना के एक बागी विधायक का बड़ा दावा, कहा- 12 सांसद जल्द शिंदे खेमे में होंगे शामिल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.