चोरी के झूठे इल्जाम में मासूम को पीटती रही पुलिस, मां मांगती रही रहम की भीख

खिचड़ी पर अस्सी घाट पर सरे आम हुई घटना, तमाशबीन बने रहे लोग।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 15 Jan 2018, 09:48 PM IST

Varanasi, Uttar Pradesh, India

वाराणसी. काशी के लिए वास्तव में खिचड़ी का दिन खास रहा। एक तरफ जहां कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण सपत्नीक श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं को खिचड़ी बांट रहे थे, वहीं दूसरी ओर वाराणसी पुलिस एक मासूम को चोरी के झूठे इल्जाम में पीटती रही और मां रहम की भीख मांगती रही। यह सब हुआ दशाश्वमेध घाट पर और लोग तमाशबीन बन कर पुलिस के इस जुल्म को देखते रहे। लेकिन कुछ लोगों ने इसका वीडियो बना कर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इसका पता चलने के बाद पुलिस को होश आया और उस बच्चे को छोड़ा।

बनारस पुलिस के संवेदनहीन चेहरे का एक ऐसा वीडिया सामने आया है जिमें पुलिस एक करीब 10- 12 साल के गरीब बच्चे को मोबाइल चोरी के आरोप में बीच सड़क पीटती दिख रही है और बच्चे की मां रहम की भीख मांग रही है। घंटों चले इस ड्रामे के बाद भी पुलिस को कुछ हासिल नहीं हुआ। जानकारी के अनुसार, मकर संक्रांति के मौके पर गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ इकट्ठा थी। सेवापुरी से भिक्षा मांगने वाला एक परिवार भी इस मौके पर अस्सी घाट पर भिक्षा मांगने पहुंचा हुआ था। इस दौरान कुछ लोगों ने एक 12 साल के बच्चे पर पर्स और मोबाइल चुराने का आरोप लगाते हुए उसे पुलिस को सौप दिया। बस क्या था लबे घाट पुलिस ने थर्ड डिग्री पनिशमेंट देना शुरू कर दिया। बच्चा चीखता चिल्लाता रहा। अपनी बेगुनाही बताता रहा लेकिन पुलिस वालों पर एक ही धुन सवार थी किसी तरह से उससे यह कबूलवा लें कि वह लोगों के पर्स व मोबाइल चुरा रहा था।

उधर अपने लाड़ले को पुलिस से पिटता देख मां पुलिस वालों से रहम की भीख मांगती रही पर उनके ऊपर कोई असर नहीं पड़ा। महिला ने पुलिस वालों के पैर भी पकड़े। उनके पैरों पर गिर पड़ी लेकिन पुलिस वाले तनिक भी न पसीजे। वह बार-बार बताती रही कि वे भीख जरूर मांगते हैं पर उनका बच्चा चोर नहीं है। वह चोरी नहीं कर सकता। लेकिन पुलिस वालों को उस पर तनिक भी भरोसा न हुआ। वह लगातार इस ठंड में उस मासूम पर डंडे बरसाती रही।

लेकिन लाख कोशिश के बाद भी पुलिस बच्चे से न तो चोरी कबूलवा सकी और न ही चोरी किया हुआ सामान बरामद कर सकी। सड़क पर पुलिस का यह ड्रामा देख लोगों की भीड़ इकट्ठा होने लगी जिसके बाद पुलिस बच्चे को लेकर मौके से चली गई। बच्चे की पिटाई और उसकी गिरफ्तारी पर जब मीडिया ने भेलूपुर के दरोगा से जानकारी मांगी तो उन्होंने पूरी घटना से अनभिज्ञता जता दी। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति पर अस्सी घाट पर कई अलग-अलग जगह की फोर्स लगी है। किसी पुलिस वाले ने पकड़ा होगा लेकिन ऐसा कोई मामला फिलहाल थाने नहीं आया है। एसपी सिटी दिनेश सिंह ने भी खुद को मामले की जानकारी से अनजान बताया।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned