300 रुपये में बना डाली एक किलोमीटर रेंज वाली स्मार्ट गन, चाइना के पास भी नहीं होगा ऐसा जुगाड़

  • एक बार फायरिंग करने पर महज 2 रुपये का आता है खर्च

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गाजीपुर. चीन में बने सामान दुनिया भर में बिकते हैं, पर हमारे देश में भी प्रतिभाओं की कमी नहीं, जरूरत है केवल संसाधन और सही मार्गदर्शन की। भारत के गांव-देहातों में भी प्रतिभाएं छिपी हुई हैं। इसकी बानगी है गांव के युवकों का वो देसी जुगाड़ जो शायद चाइना के पास भी नहीं होगा। गांव के युवक ने देसी जुगाड़ लगाकर ऐसी स्मार्ट गन बनाई है जिसकी रेंज एक किलोमीटर है। सबसे बड़ी बात यह कि यह स्मार्ट गन सिर्फ 300 रुपये में बनकर तैयार हो गई है। इसकी आवाज किसी हल्की तोप जैसी है, और रेंज एक किलोमीटर है। इसकी फायरिंग पर खर्च भी महज दो रुपये ही आता है।

 


से स्मार्ट गन किसी की जान लेने के लिये नहीं, बल्कि छुट्टा पशुओं और मवेशियों को बिना नुकसान पहुंचाए उन्हें खेतों से दूर रखने के लिये है। इसकी आवाज किसी तोप जैसी है जिसकी आवाज एक किलोमीटर दूर तक सुनाई देती है। जहां तक तेज आवाज जाती है मवेशी भाग खड़े होते हैं। कभी-कभी लोगों को इसकी आवाज सुनकर असली फायरिंग का भी शक होता है। गांव के किसान युवकों की बनाई यह स्मार्ट गन धीरे-धीरे मशहूर हो रही है और इसे खरीदने और बनाने का तरीका जानने के लिये लोग इसके बनाने वाले युवकों तक पहुंच भी रहे हैं।

 


इस बंदूक को बनाने वाले यूपी के गाजीपुर के खानपुर क्षेत्र के फरिदहां के आशुतोष सिंह बताते हैं कि महज 300 रुपये में इस स्मार्ट गन से फायरिंग करने के लिये मटर के दाने के बराबर कारबाइड और एक ढक्कन पानी की जरूरत होती है। फायरिंग पर यह इतनी तेज आवाज करती है कि खेत पर जाकर फायरिंग करने की जरूरत भी नहीं पड़ती। दूर से भी फायर करने पर खेतों से पशु भाग खड़े होते हैं।


इसे बनाने के लिये घरों की नाली में इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक के पाइप और गैस लाइटर की जरूरत पड़ती है। बनाने में करीब 300 रुपये का ही खर्च आता है। आशुतोष सिंह ने बताया कि इस गन के बारे में पता चलने के बाद अब गाजीपुर जिले ही नहीं चंदौली, आजमगढ़, जौनपुर समेत पूर्वांचल के जिलों से भी लोग इसे खरीदने और बनाने की तरकीब सीखने आ रहे हैं।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned