CM योगी के आगमन से पूर्व इस ठंड में पुलिस के छूटे पसीने जानिये क्या है वजह

जहरीली शराब कांड के पीड़ितों का हंगामा, उतरे सड़क पर। गांव की जमीन की प्लाटिंग का कर रहे हैं विरोध।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 04 Jan 2018, 04:36 PM IST

वाराणसी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बनारस आने के पहले वाराणसी-आजमगढ़ मार्ग पर मचा घमासान। ग्रामीण निकले सड़क पर और किया जोरदार प्रदर्शन। ये ग्रामीण उस गांव के हैं जहां सात साल पहले जहरीली शराब कांड के चलते 28 लोगों की जान चली गई थी। उस जहरीली शराब कांड के पीछे भी जमीन कारोबार का मामला था और अब फिर से जमीन कारोबार के विरोध में ही ये ग्रामीण निकले सड़क पर। बड़ी तादाद में ग्रामीणों के प्रदर्शन की सूचना मिलते ही इस कड़कडाती ठंड में भी पुलिस के पसीने छूटने लगे। पुलिस के आला अफसरान मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाने में जुट गए। लेकिन ग्रामीण अपनी मांग पर अड़े रहे। ग्रामीणों का कहना है कि ये जमीन का कारोबार तब हो रहा है जब सूबे में भू-माफिया के विरुद्ध अभियान चल रहा है। ऐसे माफिया चिह्नित किए जा रहे हैं। बता दें कि सीएम को आजमगढ़ से ही बनारस आना था।

बता दें कि 2010 में वाराणसी-आजमगढ़ मार्ग पर बसे सोयेपुर गांव में धड़ल्ले से जमीन का कारोबार चल रहा था। ग्रामीणों की जमीन औने-पौने दाम पर खरीद कर प्लाटिंग की जा रही थी। इस पूरे प्रकरण में ग्रामीणों को कच्ची शराब भी जम कर पिलाई जाती रही। उसी दरम्यान जहरीली शराब पीने से 28 लोगों की जान चली गई थी। कई लोगो की आंखों की रोशनी चली गई। कई विकलांग हो गए। इस पूरे प्रकरण में पूर्वांचल के लीकर किंग के नाम से मशहूर जवाहर जायसवाल और उनके भाई महेश जायसवाल का नाम सामने आया। दोनों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज हुआ। दोनों जेल गए।

उस घटना के बाद गांव में प्लॉटिंग पर रोक लगा दी गई थी। लेकिन एक बार फिर से यहां पर अवैध तरीके से प्लाटिंग शुरू हो गई है। ग्रामीण उसी का विरोध कर रहे हैं। ग्रामीण भू-माफिया के खिलाफ सड़क पर उतरे हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि जिस गांव में जमीन के कारोबार पर इतना बड़ा कांड हुआ, उसे नजरंदाज कर फिर से प्लाटिंग शुरू हो गई है। ग्रामीण इसके लिए राजस्व विभाग को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। उनका कहना है कि राजस्व विभाग के कर्मचारयों व कतिपय अधिकारियों की मिलीभगत से ही दोबारा प्लाटिंग शुरू हुई है। वे इससे काफी सहमे हैं, खास तौर पर महिलाएं। प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे संतोष ने बताया कि ग्राम पंचायत की जमीन पर अवैध तरीके से महेश जायसवाल की ओर से प्लाटिंग की जा रही थी, जिसे शराब कांड के बाद तो रोक दिया गया था। लेकिन एक बार फिर से प्लाटिंग शुरू हो गई है, जिसके कारण यहां रह रहे लाखों परिवारों को अपना घर छोड़कर सड़क पर उतरना पड़ा है।

लेकिन मुख्यंमंत्री के आगमन से ठीक पहले ग्रामीणों के उग्र होने के बाद खुफिया विभाग और पुलिस महकमा हरकत में आया। इस मामले में एसपी सिटी दिनेश सिंह का कहना है कि ग्रामीण जिसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे, उसके खिलाफ तहरीर देने को कहा गया है। अगर काम रोके जाने के बाद भी प्लाटिंग हो रही है, तो जांच कर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned