वाराणसी में हिंदू सेना के कार्यकर्ता गिरफ्तार, मां श्रृंगार गौरी के दर्शन की जिद पर अड़े थे, जानिये क्या है पूरा मामला

सावन के अंतिम सोमवार को वाराणसी (Varanasi) में विश्व हिन्दू सेना के कार्यकर्तओं ने मां श्रृंगार गौरी मंदिर (Shringar Gauri temple varanasi) में दर्शन के लिये धरना दिया, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

वाराणसी. सावन के अंतिम सोमवार को काशी में विश्व हिंदू सेना (vishwa hindu sena) के कार्यकर्ता काशी विश्वनाथ मंदिर के प्रतिबंधित क्षेत्र स्थित श्रृंगार गौरी (Shringar Gauri temple varanasi) के दर्शन पूजन की जिद पर अड़ कर छत्ता द्वार पर धरने पर बैठ गए। उन्होंने अपने हाथों में विश्व हिंदू सेना के अध्यक्ष अरुण पाठक की तख्तियां उठा रखी थीं। धरने पर बैठे कार्यकर्ता श्रृंगार गौरी का दर्शन-पूजन करने की मांग पर अड़े थे। उनकी यह भी मांग थी कि प्रशासन काशी विश्वनाथ धाम में श्रृंगार गौरी का भव्य मंदिर भी बनवाए। कुछ देर तक तो उनका धरना प्रदर्शन चलता रहा और पुलिस उन्हें समझाती रही, लेकिन जब नहीं माने तो महिलाओं व पुरुषों समेत तीन दर्जन प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार (vishwa hindu sena workers arrested) कर चौक थाने ले जाया गया।


सोमवार की सुबह काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन के लिये भक्तों की भीड़ जुटी थी। इसी बीच अचानक विश्व हिंदू सेना के करीब तीन दर्जन लोग, जिनमें महिलाएं भी शामिल थीं छत्ता द्वार पहुंचकर श्रृंगार गौरी के दर्शन को जाने की कोशिश करने लगे। सूचना मिलते ही चौक, दशाश्वमेध और लक्सा थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। रोके जाने पर वह सड़क पर धरने पर बैठ गए। पुलिस ने पहले समझाने की कोशिश की, लेकिन जब वह नहीं माने तो उन्हें जबरन उठा कर चौक थाने ले जाया गया।


प्रदर्शनकारियों का नेतृतव कर रहे विहिंसे के दिग्विजय चौबे का कहना था कि उन लोगों द्वारा स्वतंत्र रूप से मां श्रृंगार गौरी के दर्शन की मांग की जा रही है। संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुणपाठक द्वारा काफी पहले से ये प्रयास किये जा रहे हैं। हालांकि सरकार उन लोगों की मांगों को नजर अंदाज कर रही है। केन्द्र की मोदी और यूपी की योगी सरकार बनने के बाद कुछ उम्मीद बंधी थी, लेकिन ऐसा लग नहीं रहा।


हालांकि विहिसे पर महिलाओं को दर्शन के बहाने लाकर प्रदर्शन कराने का आरोप भी लगा है। विश्व हिंदू सेना के अध्यक्ष अरुण पाठक को इन दिनों फरार चल रहे हैं। वाराासी पुलिस को पीएम मोदी और सीएम योगी के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने के मामले में उनकी तलाश है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned