बीमार पिता के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए बाबा विश्वनाथ से मन्नत मांगने आए युवक को सुरक्षाकर्मियों ने पीटा

कुछ महीने पूर्व ढुंढिराज प्वाइंटपर दिव्यांग दुकानदार और शनिदेव प्वाइंट पर एक गरीब दंपती को भी पीटा था इन सुरक्षाकर्मियों ने।

By: Ajay Chaturvedi

Published: 07 Jun 2018, 05:51 PM IST

वाराणसी. एक तरफ शासन-प्रशासन बाबा विश्वनाथ दरबार में आने वाले श्रद्धालुओं से सलीके से पेश आने के तमाम इंतजाम कर रहा है। उनकी यूनीफार्म तक बदलवा दी जा रही है, लेकिन सुरक्षाकर्मी हैं कि अपनी दबंगई दिखाने से बाज नहीं आ रहे। आए दिन किसी न किसी दर्शनार्थी से उनकी नोकझोंक होती ही रहती है। अब तो वे दर्शनार्थियों पर हाथ भी उठाने लगे हैं। गुरुवार को ही दोपहर में एक युवक को इन सुरक्षाकर्मियों ने जमकर पिटाई कर दी। युवक को पिटता देख आस पास के दुकानदार मौके पर पहुंचे तो उनके साथ भी बदतमीजी की। मजेदार तो यह कि इस घटना के वक्त आईजी रेंज विजय सिंह मीणा विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र में मौजूद थे। वह क्षेत्र का निरीक्षण कर अधिकारियों संग वह बैठक कर रहे थे।

दोपहर करीब एक बजे की घटना है। गेट नंबर-2 यलो जोन शकरकंद गली प्वाइंट पर भक्तों की लंबी लाइन लगी थी। आने-जाने की मामूली सी बात को लेकर चुनार से बाबा का दर्शन करने आए शिवकुमार की सुरक्षाकर्मियों ने पिटाई कर दी। आसपास के बीच-बचाव करने आए तो सुरक्षाकर्मियों ने उनसे भी दुर्व्यवहार किया। इसके बाद दर्शनार्थियों ने इसका विरोध शुरू कर दिया। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे पाली प्रभारी और दशाश्वमेध चौकी इंचार्ज के आश्वासन पर मामला किसकी तरह शांत हुआ। व्यापारियों ने सुरक्षाकर्मी विकास यादव और अनुराग विक्रम सिंह के खिलाफ तहरीर भी दी है।

बता दें कि सुरक्षाकर्मियों ने चुनार के जिस युवक की पिटाई की वह पिता के इलाज के बाबत बीएचयू के सरसुदर लाल चिकित्सालय आया है। उसके पिता वहीं भर्ती हैं। वह पिता के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना से बाबा विश्वनाथ से याचना करनने पहुंचा था। दर्शन कर के लौट रहा था तभी आने-जाने की बात को लेकर पुलिस से हल्की नोकझोंक हुई फिर पुलिस वालों ने उसे पीट दिया।

हालांकि विश्वनाथ मंदिर के रेड जोन में यह कोई पहली घटना नहीं है। कुछ महीने पूर्व ढुंढिराज गणेश प्वाइंट पर दिव्यांग दुकानदार और शनिदेव प्वाइंट पर एक गरीब दंपती की भी पिटाई कर दी गई थी। उस समय भी सुरक्षा कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन व्यापारियों और स्थानीय नागरिकों को दिया गया था। लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। वैसे भी मंदिर सुरक्षा में लगे पुलिस वाले कब किसके साथ दुर्व्यवहार कर दें, किसे पीट दें कहा नहीं जा सकता। आए दिन इस तरह की घटना होती ही रहती है। खास तौर पर सोमवार और शनिवार को इनकी दबंगई देखते बनती है। इन दिनों मलमास में दर्शनार्थियों की ज्यादा भीड़ हो रही है। दक्षिण भारतीय भी ज्यादा आ रहे हैं और ये सुरक्षाकर्मी दक्षिण भारतीय दर्शनार्थियों के साथ तो और भी दुर्व्यवहार करते है। इतना ही नहीं अपने सगे संबंधियों को लाइन तोड़ कर वीआईपी दर्शन कराना भी इनकी आदत में शुमार है। इनके व्यवहार से क्षेत्रीय दुकानदार भी त्रस्त हैं। यहां तक कि विश्वनाथ मंदिर के समीप शनिदेव, अक्षयवट हनुमान मंदिर के महंत तक को रोक दिया जाता है। मंदिर परिसर में भी ये सुरक्षाकर्मी दर्शनार्थियों संग बदतमीजी करते रहते हैं।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned