जब जंगल में मिल जाए भालू तो बच्चों क्या करोगे 

जब जंगल में मिल जाए भालू तो बच्चों क्या करोगे 

जब जंगल में मिल जाए भालू तो बच्चों  क्या करोगे 

जंगलों पर पड़ने वाले मानवीय प्रभाव जैसे कि अतिक्रमण,खेती,खनन,वनों की कटाई,शिकार से वन्य जीवों के आवास और उनके अनुकूलन क्षमता पर बहुत खराब असर पडा है। ऐसे में जंगली जानवर और आस-पास के ग्रामीणों में अक्सर आमना-सामना हो जाता है जिसमें तेंदुआ और भालू सबसे आम है । अभी कुछ हफ्ते पहले मिर्ज़ापुर के मडिहान क्षेत्र के एक गाँव में बाघके आ जाने से हडकंप मच गया था।ग्रामीण घबरा कर उस बाघ को घेरकर मारने के लिए पहुँच गए,और जब बाघ को घेर लिया तो उसने भी घबराकर लोगोंपर हमला बोल दिया और फिर जंगल में चला गया। गौर करने वाली बात यह है कि जंगली जानवर इंसानों से वैसे ही बहुत डरते है और आपके बिना कुछ किये ही वो जंगल में भाग जायेंगे बशर्ते आप उनको उत्तेजित न करे।

ज़रूरीहै वन्य-जीवों के व्यवहार को समझना

ज़्यादातरजंगली जानवर रात में ही निकलतेहै परन्तु कभी-कभार दिन में भी इनसे भेंट हो सकती है जैसे कि आप जंगल में लकड़ी बीनने या भेड-बकरी चराने गए हुए हों,और अचानक कोई जानवर झाडी में बैठा मिल जाए। इस तरह के आकस्मिक आमना-सामना का नतीजा कई बार दुर्घटना बन सकती है जिसमें जानवर और इंसान दोनों क्षतिग्रस्त हो सकते है। थोडा बहुत सूझ-बूझ,वन्यजीवों के व्यवहार का ज्ञान और धैर्य रखने से आप ऐसे आमना-सामना वाले स्थिति को किसी गंभीर दुर्घटना में तब्दील होने से रोक सकते है।

पूर्वी यूपी में मिलते हैं शर्मीले भालू 

दक्षिणी-पूर्वीउत्तर प्रदेश के मिर्जापुर,सोनभद्र,चंदौलीजिलों में भालू और इंसान के बीच मुठभेड़ की घटनाएँ बारंबार सुनने को मिलता है। उत्तरप्रदेश के विंध्य क्षेत्र एवं इसके आस-पास में पाये जाने वाले भालू की प्रजाति को ‘स्लॉथभालू' कहा जाता है। यह बेहद शर्मीले मिज़ाज़ के होते हैं और इंसानों से दूरी बनाकर रहते हैं। यहदिन के समय में अक्सर गुफाओं और झाड़ियों में सुस्ताते है।साधारणत:यह भालू सूरज ढलने के बाद ही खाने-पीने निकलते है,पर ज़रूरत महसूस होने पर यह दिन में भी निकल सकते है। यह मुख्यतः दीमक और चींटीओं से ही अपना पेट भर लेते हैं और ऐसा करने वाले यह दुनिया का एकमात्र भालू कीप्रजाति है । जंगली बेर औरमहुआ के फल इनके बेहद पसंदीदा आहारों में से एक है। और अगर इनको कहीं मधुमक्खी का छत्तादिख जाए तो यह पेड़ पर चढ़ जातेहैं और शहद के साथ साथ मधुमक्खिओं को भी चट कर जाते हैं। ऐसे मेंहम इंसानों को इनसे डरने कीज़रूरत नहीं है क्यूंकि भालूजंगल में रह कर ही अपनी सारीज़रूरतें पूरी करने में सक्षम है । अगर इनके पर्यावास के साथ छेड़छाड़ ना की जाए तो यह जानवर शायद ही कभी जंगलों से बाहर आने पर मजबूर हों ।

जंगलीजानवरों को उत्तेजित बिलकुलना करें

मिर्ज़ापुरमें हाल ही में हुए एक अध्ययनसे मालूम चला है कि अधिकांशभालूओं से मनुष्यों का मुठभेड़ जंगल में लकड़ी इकठ्ठा करतेसमय, नदियों या तालाबों के किनारे शौच करते समय या फिर भोर में महुआके फल बीनते समय होते हैं ।इनमें से ज़्यादातर घटनायें जिनमें मनुष्यों को नुक्सान पहुंचा हो उनमें यह पता चलाहै कि लोगों को मालूम नहीं था कि भालू सामने आ गया तो उन्हें क्या नहीं करना चाहिए। हड़बड़ीमें लोग ऐसा कुछ कर बैठते है जिससे जानवर उत्तेजित होकर हमला कर देते है। कई बार कुछ असामान्य परिस्थितिओं में इंसानी मृत्यु भी हुई है तो कई घटनाओं में भालूओं को भी मौत के घाट उतारा जा चुका है।यह बात समझना बहुत ज़रूरी है कि भालू से आपको कोई ख़तरा नहींहै, इसलिए घबराने की ज़रूरत नहीं है। भालूया कोई भी और जंगली जानवर अपनी आत्म-रक्षामें ही हमला करते है,और ज़्यादातर ऐसा तब होता है जब हम उन्हें डराने की कोशिश में उन्हें उत्तेजित कर देते हैं। अच्छी बात यह है कि अगर कुछ बातों का ध्यान रखें तो इससे आप और जानवर दोनों सलामती से रह सकते है।

निम्नबातों का रखें ध्यान

  1. जंगलों में कोशिश करे अकेले कभी ना जाएँ, और समूह में हमेशा एक दुसरे से करीब रहे। अँधेरी झाडी, पथरीले टीले, पहाड़ी और गुफाओं के नज़दीक ना जाए, हो सकता है वहाँ भालू या कोई और जानवर विश्राम कर रहा हो। सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद जंगल में लकड़ी इकठ्ठा करने ना जाए । जंगली रास्तों से गुजरते समय आवाज करते रहे जिससे अगर आसपास कोई जानवर हो तो आपसे सचेत होकर स्वयं ही दूर चला जाए।


  1. अगर आपको सामने से भालू आता दिखे तो ना शोर मचाएं और ना ही तेज भागने की कोशिश करें । कोशिश करें भालू की तरफ मुँह करते हुए पीछे की ओर चलते रहे जब तक कि एक सुरक्षित दूरी ना बन जाए। ऐसे में यह भी ध्यान रखें की भालू से सीधे आँख से आँख ना मिलाए लेकिन उसकी हरकतों पर नज़र बनी रहे। हड़बड़ी बिलकुल न करें, इससे जानवर घबरा सकता है। अगर समूह में है तो एक दूसरे से सटकर रहें, हमले की संभावना कम होगी। आपस में बहुत ही धीरे से बात करें और अगली रणनीति बनाये। सबसे पहले बच्चों और शारीरिक रूप से कमजोर व्यक्तियों को सुरक्षित करें।


  1. अगर आप अकेले है और भालू हमला कर देता है तो उससे लड़ने की कोशिश ना करें और ना ही भागने की कोशिश करें। अपने दोनों हाथों को कंधे के पीछे ले जाकर इस तरह फंसायें कि आपकी दोनों कोहनी आपके माथे के सामने रहे और आपकी गर्दन आपके हाथों के बनाए सुरक्षा-कवच से ढका रहे । साथ ही साथ अपने दोनों घुटनों को माथे के करीब ले आकर अपने आप को गेंदनुमा बना लें और एक दिशा में लेट जाये।


  1. इस बात का हमेशा ध्यान रखिये भालू आपको शिकार करने के लिए हमला नहीं करता है। वह ज़्यादा से ज़्यादा आपको नाखून मारेगा या दांत से काटेगा सिर्फ ये जांचने के लिए कि आपसे उसे ख़तरा तो नहीं है । इसलिए इस बात का ध्यान रखें की एक बार भालू ने हमला कर दिया तो हिलना डुलना बंद कर दें और गेंदनुमा मुद्रा में ही पड़े रहें। भालू आपको नाखूनों से वार करने के बाद स्वत: ही चला जाएगा। तुरंत बाद न बैठे और न ही खड़े हों, इससे आप पर फिर से हमला हो सकता है। निश्चित कर लें कि भालू दूर चला गया है उसके बाद ही उठे और मदद के लिए देखें ।


  1. अगर गाँव के आसपास कभी भालू या कोई जंगली जानवर दिख जाए तो अधिकतर संभावना यह है कि वह जानवर अपने आप जंगल में वापस चला जाएगा। अगर लगे कि जानवर ख़तरा बन सकता है तो तुरंत वन विभाग को सूचित करें और बाकी लोगों को भी सचेत रहने के लिए बोलें । उसको घेरने की कोशिश ना करें, और ना ही उस किसी भी तरह के हथियार से हमला करें ।


ज़रूरीनहीं कि यह सारे उपाय सही साबितहो और यह परिस्थिति पर बहुतज़्यादा निर्भर करता है कि आपकासामना अगर भालू से हो गया तोआपको क्या करना चहिए। हालांकिइन सभी उपायों को अगर ध्यानमें रखें तो हो सकता है आपकोनुक्सान कम हो। स्लॉथ भालूवन्यजीव संरक्षण अधिनियम1972 केतहत संरक्षित प्रजाति है औरआपके द्वारा अगर इसको क्षतिपहुंचती है तो आपके खिलाफकानूनी कारवाई भी हो सकती है।जंगली जानवरों द्वारा कियेगए नुक्सान पर वन विभाग द्वारामुआफज़ा भी दिया जाता है।


लेखकविंध्य बचाओ अभियान से जुड़ेपर्यावरणविद हैं एवं मिर्ज़ापुरमें भालूओं के संरक्षण पर कामकर रहे है।

Ad Block is Banned