भरा-पूरा परिवार फिर नहीं मिला सुख तो लगा लिया मौत को गले

भरा-पूरा परिवार फिर नहीं मिला सुख तो लगा लिया मौत को गले
women self immolation

बहू-बेटों की बेरूखी से आहत महिला ने खुद को किया आग के हवाले

वाराणसी. कहने को उसके चार बेटे थे, तीन बहुएं थी यानि पूरा भरा पूरा परिवार। इसके बाद भी मुन्नी देवी को कभी परिवार का सुख नहीं मिला। अपनों की बेरूखी से वह भीतर-भीतर घुटती रहती थीं। सब्र का बांध टूट गया तो परमात्मा से मिलने की बात कह खुद की इहलीला समाप्त कर ली।
वाराणसी के सिगरा थाना क्षेत्र के सोनिया निवासी सरजू प्रसाद की 55 वर्षीय पत्नी मुन्नी देवी ने अपने ऊपर मिट्टी का तेल उड़ेलकर खुद को आग के हवाले कर दिया। गंभीर रूप से झुलसी मुन्नी देवी ने मंडलीय अस्पताल कबीरचौरा में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। जानकारी के अनुसार मुन्नी देवी के चार बेटे और तीन बहुएं हैं। शादी के बाद से ही बेटों ने मां की ओर कम पत्नी का ध्यान देना अधिक शुरू कर दिया। मुहल्ले वालों ने बताया कि बेटे और बहुएं दिनभर मुन्नी देवी पर बिना बात के चीखते-चिल्लाते थे जिसके चलते वह मानसिक रूप से परेशान रहने लगी थीं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned