वाराणसी. बीजेपी का गढ़ और केंद्र से लेकर राज्य तक में बीजेपी की सरकार, प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में गुरुवार को सियासी पारा खूब चढा। युवक कांग्रेस के नेतृत्व में पूरी कांग्रेस किसानों के मुद्दे पर पहुंच गई जिला मुख्यालय। उधर किसान भी खेती के परंपरागत औजार, हल-बैल और पूरे परिवार संग पहुंच गए। इसके साथ ही शुरू हो गया घेरा डालो-डेरा डालो आंदोलन। इस मौके पर किसान और कांग्रेसजनों ने साफ किया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती वो मुख्यालय छोड़ने वाले नहीं। बता दें कि किसान और कांग्रेसजन बनारस में भूमि अधिग्रहण कानून 2013 लागू कराने के लिए साल भर से संघर्षरत हैं। इस मुद्दे को लेकर किसान खून से प्रधानमंत्री के नाम खत लिख चुके हैं। दिल्ली जंतर-मंतर पर धरना दे चुके है। लेकिन मांग पूरी नहीं हुई। ऐसे में अब उन्होंने मुख्यालय पर घेरा डालो-डेरा डालो आंदोलन शुरू किया है। किसानों के इस आंदोलन में युवक कांग्रेस ने बनारस के धरोहरों का मुद्दा भी शामिल किया है। खास तौर पर जिस तरह से विश्वनाथ कॉरिडोर के नाम पर विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र के मंदिर व प्राचीन भवनों को जमींदोज किया जा रहा है, कांग्रेस उसके भी विरुद्ध है। हालांकि किसानों और कांग्रेसजनों के साथ पुलिस की नोकझोंक भी हुई पर आंदोलनकारी डटे रहे।

 

 

Ad Block is Banned