सिरोंज के 13 और लटेरी के 8 वार्ड अनारक्षित वर्ग के हिस्से में

कलेक्टर ने की नगरीय निकायों के वाड आरक्षण की घोषणा

By: govind saxena

Published: 07 Mar 2020, 06:30 AM IST

विदिशा. आगामी नगरीय निकायों के चुनाव के लिए शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में सिरोंज नगरपालिका और लटेरी नगर परिषद के वार्डोँ का आरक्षण हुआ। एक-एक वार्ड की पर्ची लॉटरी सिस्टम से निकालने के बाद कलेक्टर ने सभी वार्डोँ के आरक्षण की घोषणा की। सिरोंज नगरपालिका के 21 वार्डोँ में से 13 वार्ड अनारक्षित वर्ग के लिए घोषित हुए हैं, वहीं लटेरी नगर परिषद के 15 वार्डों में से 8 वार्ड अनारक्षित वर्ग के हिस्से में आए हैं।


कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, एडीएम वृन्दावन सिंह, ग्यारसपुर एसडीएम आरती यादव, सिरोंज एसडीएम अनिल कुमार सोनी, लटेरी एसडीएम ब्रिजेन्द्र यादव सहित डिप्टी कलेक्टर लोकेन्द्र सरल की मौजूदगी में आरक्षण की प्रक्रिया पूरी की गई। इस दौरान सिरोंज-लटेरी क्षेत्र के लोगों के साथ ही विदिशा के भी कुछ नेता मौजूद रहे।

सिरोंज में अजजा के लिए आरक्षण नहीं
सिरोंज नगर पालिका के लिए हुए 21 वार्डों के आरक्षण में से किसी भी वार्ड को अनुसूचित जन जाति के लिए आरक्षित नहीं किया जा सका। सभी वार्डों में अजजा वर्ग के सदस्यों की संख्या इतनी नहीं थी कि उसमें किसी भी वार्ड को आरक्षित किया जा सकता।

सर्वाधिक जनसंख्या बना आधार
लटेरी में अनुसूचित जाति वर्ग के लिए वार्ड 6 और 7 में अनुसूचित जाति के लोंगों की जनसंख्या सर्वाधिक होने के कारण इन वार्डों को एससी वर्ग के लिए आरक्षित किया गया। इसमें से भी वार्ड 7 महिला और वार्ड 6 अनुसूचित जाति वर्ग के लिए मुक्त रखा गया है। इसी तरह लटेरी के वार्ड 3 में नगर में सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों की संख्या होने के कारण इस वार्ड को अजजा वर्ग के लिए आरक्षित घोषित किया गया।

दबाव था कि आरक्षण घोषित न हो
शुक्रवार को हुई आरक्षण प्रक्रिया के बीच भी प्रशासनिक अधिकारियों पर दबाव रहा कि आरक्षण घोषित न किया जाए। परिसीमन से असंतुष्ट कुछ कांग्रेस और भाजपा के नेता नहीं चाहते थे कि आरक्षण प्रक्रिया घोषित हो। प्रक्रिया के दौरान भी कुछ अधिकारियों पर फोन आते रहे कि आरक्षण रोक दो, लेकिन प्रशासन ने प्रक्रिया रोकने से इंकार कर दिया और आरक्षण घोषित किया गया।

मजा आ गया, ये दोनों वार्ड मिल गए...
इस बार नगरीय निकायों के अध्यक्ष अप्रत्यक्ष पद्यति से चुने जाना हैं, इसलिए पार्षदों का महत्व भी बढ़ गया है। यानी अध्यक्ष बनने के लिए पार्षद बनना भी जरूरी है। ऐसे में नेताओं का अपने-अपने वार्ड के आरक्षण पर नजर थी। आरक्षण प्रक्रिया के दौरान लटेरी से आए दो नेता साथ-साथ बैठे थे। जैसे ही लटेरी के वार्ड 1, 4, 10 और 13 का आरक्षण अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए घोषित हुआ, वैसे ही ये दोनों नेता खुशी से उछल पड़े, दोनों ने एक दूसरे का हाथ थामकर बधाई दी और कहा कि- मजा आ गया, ये दोनों वार्ड अपने को मिल गए।


नगरपालिका परिषद सिरोंज
कुल वार्ड -21
अनुसूचित जाति के लिए-3, 16, 17
अनूसूचित महिला के लिए-3, 16
अनुसूचित जनजाति-00
ओबीसी के लिए-1, 4, 6,15, 21
ओबीसी महिला के लिए-1, 6, 21
अनारक्षित वर्ग के लिए-2, 5, 7, 8, 9, 10, 11, 12, 13, 14, 18, 19, 20
अनारक्षित महिला के लिए-2, 7, 8, 14, 20


नगर परिषद लटेरी
कुल वार्ड 15
अनुसूचित जाति के लिए- 6, 7
अनुसूचित महिला के लिए-07
अजजा के लिए-03
ओबीसी के लिए-1, 4, 10, 13
ओबीसी महिला-1, 4
अनारक्षित वर्ग के लिए-2, 5, 8, 9, 11, 12, 14, 15
अनारक्षित महिला के लिए-2, 9, 12, 14

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned