विदिशा के बरबटपुरा में आधा घंटे में 37 घर जलकर खाक

दलितों की बस्ती पर नरवाई की आग का कहर

By: Jagdeesh Ransurma

Published: 15 Apr 2016, 11:51 PM IST


विदिशा. मेहनत-मजदूरी करके अपनी गुजर बसर करते 37 घरों पर शुक्रवार की दोपहर नरवाई की आग कहर बनकर बरपी। तेज हवा के साथ खेतों से दलित बस्ती बरबटपुरा में पहुंची आग ने आधा घंटे में कोहराम मचा दिया। बस्तीवाले समझ ही नहीं पाए कि अचानक ये क्या और कैसे हो गया। भगदड़ मच गई और देखते ही देखते करीब 50 लाख रुपए का नुकसान हो गया। रोने-चीखने की आवाजों से बस्ती गूंज उठी। जिसे जैसे समझ आया, आग बुझाने का प्रयास किया लेकिन आग अपना काम कर चुकी थी। बस्ती के हर चेहरे पर सब कुछ खोने का दर्द साफ झलक रहा था।

आग से तबाही की खबर मिलते ही नपाध्यक्ष मुकेश टंडन, जिला पंचायत अध्यक्ष तोरणसिंह दांगी, इंका नेता शशांक भार्गव, एसडीएम आरपी अहिरवार, नायब तहसीलदार धीरेन्द्र गुप्ता समेत रक्षित निरीक्षक उपेन्द्र सिंह, सिविल लाइन टीआई संजीव चौकसे, करारिया टीआई अरुणा सिंह सहित पुलिस और राजस्व का अमला मौके पर पहुंचा। जनप्रतिनिधियों को देख बस्ती की महिलाएं-पुरुष फूटफूटकर रोने लगे। उन्हें ढांढस बंधाया गया। जिपं अध्यक्ष दांगी ने मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत सभी पीडि़तों के मकान बनवाने की घोषणा की।

नपाध्यक्ष मुकेश टंडन ने गांव का दौरा करने के बाद बताया कि बरबटपुरा में दर्दनाक हादसा हुआ है। करीब 50 लाख रुपए का नुकसान है। प्रत्येक परिवार को विभिन्न मदों से करीब 1 लाख रुपए की राहत मिलेगी। आवास भी उपलब्ध कराए जाएंगे। राहत शिविर शुरू करा दिया है। खाना, रहना सहित सभी जरूरी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। व्यापार महासंघ भी मदद करने को तैयार है।

दोपहर 1 बजे से 3 बजे के बीच इमलिया, नागपिपरिया और हरुखेड़ी गांवों में नरवाई की आग भड़की। जिला मुख्यालय से 12 किमी दूर स्थित इमलिया की दलित बस्ती को दोनों ओर के खेतों की नरवाई ने तेजी से चपेट में ले लिया। घरों में आग लगते ही भगदड़ मची और लोग अपने-अपने साधनों से आग बुझाने भाग खड़े हुए। महिलाओं और बच्चों को बाहर कर दिया गया। लेकिन बाल्टियों और मग्गों से भीषण आग बुझाने के प्रयास नाकाम हुए। जब तक दमकल को खबर होती, तब तक 34 घर पूरी तरह और 4 घर आंशिक रूप से जल चुके थे।
Jagdeesh Ransurma
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned