बच्चों के यूनीफार्म से लेकर स्कूल के मेंटेनेंस तक का खर्च खुद उठाते है सभी टीचर

शासकीय प्राथमिक शाला पीपरहूंठा की व्यवस्थाएं शासन पर निर्भर न रहकर आपस में स्टॉफ के खर्चे से भी संचालित होती हैं।

विदिशा. शासकीय प्राथमिक शाला पीपरहूंठा की व्यवस्थाएं शासन पर निर्भर न रहकर आपस में स्टॉफ के खर्चे से भी संचालित होती हैं। शाला भवन की पुताई, मरम्मत, पेंटिंग, बागवानी और बच्चों की यूनीफार्म भी कई बार यहां के शिक्षक खुद के खर्चे से ही तैयार कराते हैं। इस बार यहां के शिक्षकों ने शाला के विद्यार्थियों को सर्दी से बचाने के लिए अपने खर्च से स्वेटर वितरित कराए हैं।

 

शाला के सभी 65 विद्यार्थियों को ये स्वेटर शाला प्रमुख कैलाश आर्य, शिक्षिका राधा बुनकर तथा प्रीति बावरिया ने अपने वेतन की राशि में से खरीदे और वितरित कराए। शाला में स्वेटर वितरण का यह कार्य विधायक शशांक भार्गव और डीईओ एसपी त्रिपाठी के हाथोंं कराया गया।

 

इस मौके पर विधायक ने कहा कि मैंने अपनी पहली विधायक निधि का उपयोग मां दुर्गा के मंदिर और क्षेत्र के दस विद्यालयों में स्मार्ट कक्षाओं को बनाने के लिए किया है। जिला शिक्षाधिकारी एसपी त्रिपाठी ने कहा कि शिक्षक को हमेशा जीवंत होना चाहिए। इस मौके पर अतिथियों ने शाला में किए जा रहे नवाचारों की प्रशंसा की। आभार खेल अधिकारी विनोद चौधरी ने व्यक्त किया।


गौरतलब है कि इस विद्यालय के शिक्षकों ने अपने वेतन में से ही राशि एकत्रित कर गांव की एक निर्धन कन्या का विवाह भी पूरी धूमधाम से कराया था।

Show More
govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned