MP में यहां समिति में अपनों को ही भर लिया, अनुदान मिला लेकिन ऑडिट नहीं कराया

दीक्षा निकेतन पहुंच आयुक्त ने संस्था प्रबंधन से चर्चा की।

विदिशा. दिव्यांग बच्चों के लिए संचालित होने वाले दीक्षा निकेतन विशेष स्कूल और छात्रावास में सोमवार को दोपहर बाद आयुक्त निशक्तजन जा पहुंचे। उन्होंने वहां का रिकार्ड देखा और स्टॉफ सहित प्रबंधन से बातचीत की। यहां समिति में अपने परिवार और रिश्तेदारों को भर लेने और सरकार से अनुदान लेने के बाद भी चार्टर्ड एकाउंटेंट से ऑडिट न कराने पर आपत्ति जताई।

कमिश्नर संदीप रजक ने इंद्रा कॉम्पलेक्स में राजुल विकलांग पालक अभिभावक उत्थान समिति द्वारा संचालित दीक्षा निकेतन विशेष स्कूल का दौरा किया। यहां उन्होंने संस्थान प्रबंधन से जुड़े संजीव जैन और स्टॉफ से चर्चा की। कमिश्नर ने पाया कि शासकीय अनुदान प्राप्त इस संस्था में जितने भी कर्मचारी रखे गए हैं उनमें से किसी के पास भी नियुक्ति पत्र नहीं था। कमिश्नर ने बच्चों से भी चर्चा की और उनसे व्यवस्थाओं के बारे में जाना।

इस अवसर पर कमिश्नर संदीप रजक के साथ पंचायत एवं सामाजिक न्याय विभाग के उपसंचालक डॉ पीके मिश्रा, भगवान सिंह राजपूत सहित अनेक लोग भी मौजूद थे। निरीक्षण के लिए पहुंची इस टीम ने संस्थान के दस्तावेजों का अध्ययन किया और भारत सरकार तथा राज्य सरकार से मिलने वाली अनुदान राशि, उसके उपयोग, कैशबुक, ऑडिट, संस्थान में बच्चों की संख्या, बच्चों को दी जाने वाली सुविधाओं आदि की जानकारी ली और संस्थान प्रबंधन को जरूरी हिदायत दी।

govind saxena
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned