फिर बढ़ता जा रहा कोरोना का संक्रमण, दो दिन में 14 नए मरीज

नहीं थम रहा लापरवाही का दौर, मुश्किल में डाल देगें ये हालात

By: govind saxena

Updated: 17 Mar 2021, 10:17 PM IST

विदिशा. कोरोना संक्रमण अपने दूसरे दौर में फिर पैर पसारने लगा है। कभी एक तो कभी पांच नए मिल रहे हैं। मंगलवार और बुधवार को सात-सात नए संक्रमित मिलने से चिंता फिर बढ़ गई है। लेकिन जिले में सावधानी का दौर पूरी तरह गायब है और हर तरफ लापरवाही और भीड़तंत्र का आलम है। जिले में अब तक 79 लोगों की कोरोना से मौत भी हो चुकी है, लेकिन फिर भी लोग इसके घातक प्रभाव को समझने को तैयार नहीं है। उधर शासन ने भी गाइडलाइन जारी है, लेकिन बेफिक्री का दौर खत्म होता नहीं दिखता।

जिले में अब तक 98 हजार से ज्यादा लोगों के कोरोना सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं, जिनमें से 3722 लोग संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से 3605 लोग उपचार के बाद ठीक भी हो चुके हैं, लेकिन कोरोना की यह भयावहता ही है कि जिले के 79 लोग इसका शिकार होकर काल कवलित भी हो चुके हैं। बुधवार को 231 नए लोगों के सैंपल लिए गए, जबकि 213 लोगों की रिपोर्ट प्राप्त हुई, जिसमें से 7 पॉजिटिव मिले हैं। ये सातों मरीज विदिशा तहसील के ही हैं।

एक बार फिर पैर पसारता कोरोना संक्रमण बीते दिनों की भयावहता याद दिला रहा है, जिसमें दिन भर सडक़ों पर सायरन बजाती एंबूलेंस पीडि़तोंं को कोविड सेंटर पहुंचाती दिखती थी। पीपीइ किट में कर्मचारी तैनात दिखते और हर मोहल्ले में जगह-जगह बैरीकेट्स लगाकर बनाए गए कंटेनमेंट जोन दिखते थे। शुरुआती दिनों और बीच में तो पूरे के पूरे मोहल्ले ही सील हो गए थे। अरिहंत विहार को पूरी तरह बंद करने का दिन शहर के लोग नहीं भूले हैं। लेकिन दुर्भाग्य है कि इस सबको भोगने के बाद भी जिले के लोगों में जागरुकता नहीं आ पाई और अधिकांश लोग इससे बचने के उपाय अपनाना नहीं सीख पाए। आलम यह है कि अब 90-95 प्रतिशत लोग बिना मॉस्क के सडक़ों, संंस्थानों, कार्यालयों और समारोह में पहुंच रहे हैं। समारोहों का आलम यह है कि जैसे कोरोना नाम का कोई संक्रमण यहां न है और न ही आएगा। हालांकि कई शहरों की हालत फिर चिंताजनक है, लेकिन उससे भी लोग कोई सबक लेते नहीं दिख रहे हैं। जिला प्रशासन ने भी अभी सख्ती बरतने का कोई संकेत नहीं दिया है, लेकिन आए दिन फिर से मिलने वाले केस चिंता बढ़ाने के लिए पर्याप्त हैं।

गृह विभाग ने जारी की गाइडलाइन
गृह विभाग ने संक्रमण को बढ़ते देख नई गाइडलाइन जारी की है। इसके अनुसार दुकानों और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानोंं पर मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वाले दुकानदारों पर भी कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा मास्क का उपयोग नहीं करने वाले लोगों पर जुर्माना करने के निर्देश हैं।


शिक्षण संस्थाओं में भी लापरवाही का आलम
जुलूस, रैलियां, धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक और सरकारी आयोजनों पर कहीं कोई बंदिश नहीं है। सब सामने होने के बावजूद न प्रशासन को फिक्र है और न ही लोगों को। कई जगह शिक्षण संस्थाओं में भी विद्यार्थी बिना मास्क के पहुंच रहे हैं, यही हाल शासकीय कार्यालयों में भी कई कर्मचारियेां का है। बाकी आयोजनों का भगवान ही मालिक है।

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned