scriptDemand After Raisen Now Vidisha Vijay Mandir to Unlock | अब इस मंदिर का ताला खुलवाने की उठ रही मांग, 71 साल से लटका है ताला | Patrika News

अब इस मंदिर का ताला खुलवाने की उठ रही मांग, 71 साल से लटका है ताला

रायसेन के शिव मंदिर के बाद अब विदिशा में उठ रही इस मंदिर का ताला खुलवाने की मांग...

विदिशा

Published: April 22, 2022 04:58:12 pm

विदिशा. मध्यप्रदेश में इन दिनों मंदिरों का ताला खुलवाने की मांग जोर शोर से उठ रही है। कुछ दिन पहले सीहोर वाले पंडित प्रदीप मिश्रा के मंच से रायसेन के शिव मंदिर में ताला लगे होने की बात उठाने के बाद अब विदिशा में भी एक मंदिर का ताला खुलवाने की मांग तेज हो गई है। शहर के व्यापार एवं उद्योग मंडल ने विदिशा के विजय मंदिर का ताला खोलने की मांग उठाई है। जिसके लिए शहर में जगह जगह पोस्टर लगाए गए हैं। बता दें कि विजय मंदिर पुरातत्व विभाग के अधीन है और उस पर 71 साल से ताला लगा हुआ है।

vijay_mandir_vidisha.jpg

विजय मंदिर का ताला खुलवाने की मांग
विदिशा के विजय मंदिर का ताला खुलवाने के लिए एक बार फिर आंदोलन की शुरुआत होती नजर आ रही है। शुक्रवार को शहर में विजय मंदिर का ताला खुलवाने की मांग करते हुए जगह जगह पोस्टर लगाए गए हैं। ये पोस्टर व्यापार एवं उद्योग मंडल की ओर से लगाए गए हैं। शहर का विजय मंदिर हिंदुओं की आस्था का केन्द्र है लेकिन उस पर 71 सालों से पुरातत्व विभाग का ताला लटका हुआ है जिसके कारण मंदिर वर्तमान में महज एक स्मारक बनकर रह गया है। व्यापारियों की मांग है कि मंदिर का ताला खुलवाया जाए जिससे कि शहर के लोग मंदिर में जाकर पूजा अर्चना कर सकें।

यह भी पढ़ें

भाजपा में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के कई विधायक!, मची हलचल

vidisha_2.jpg

सिर्फ नागपंचमी को खुलता है मंदिर का ताला
बता दें कि शहर के मध्य में बने विजय मंदिर को सूर्य मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर का ताला साल में सिर्फ नागपंचमी के दिन खुलता है और वहां पर मेला भी लगता है। अगर मंदिर के इतिहास की बात की जाए तो बताया जाता है कि विजय मंदिर सूर्य भगवान को समर्पित था। चालुक्य राजाओं ने अपनी शौर्यपूर्ण विजय को अमर बनाने के लिए इसका निर्माण कराया था। मंदिर के निर्माण का श्रेय चालुक्यवंशी राजा कृष्ण के प्रधानमंत्री वाचस्पति को जाता है। इसके बाद 10वीं-11वीं शताब्दी के दौरान परमार शासकों द्वारा मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया। हालांकि मंदिर ने कई बार इस्लामी आक्रमण भी झेला, जिसके कारण मंदिर क्षतिग्रस्त भी हुआ। इतिहासकारों का कहना है कि सन् 1922 के समय मुस्लिमों द्वारा यहां नमाज पढ़नी शुरू कर दी गई और हिन्दुओं द्वारा की जाने वाली पूजा का विरोध प्रारम्भ हो गया। 1947 के बाद से हिन्दू महासभा द्वारा इसे प्राप्त करने के लिए संघर्ष किया गया, जिसके बाद विजय मंदिर को सरकारी नियंत्रण में ले लिया गया ।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Bharat Drone Mahotsav 2022: दिल्ली में ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन कर बोले मोदी- 2030 तक ड्रोन हब बनेगा भारतपहली बार हिंदी लेखिका को मिला International Booker Prize, एक मां की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलकोलकाता में ये क्या हो रहा... एक और मॉडल Manjusha Niyogi की लाश मिलीRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चRCB के खिलाफ दूसरे क्वालीफायर मैच से पहले राजस्थान रॉयल्स को लगा बड़ा झटका, यह ऑलराउंडर IPL से हुआ बाहरResearch on Birds : इंसान ही नहीं पक्षी भी लेते हैं लोकतांत्रिक तरीके से निर्णय
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.