भोपाल हादसे के बाद एफओबी की जांच

भोपाल में फुट ओवर ब्रिज का एक हिस्सा ढहने के बाद शुक्रवार को रेलवे अधिकारियों ने मंडीबामोरा रेलवे स्टेशन पर पैदल पुल की जांच की

प्रशांत सोलंकी की रिपोट...


मंडीबामोरा. भोपाल में फुट ओवर ब्रिज का एक हिस्सा ढहने के बाद शुक्रवार को रेलवे अधिकारियों ने मंडीबामोरा रेलवे स्टेशन पर पैदल पुल की जांच की। उसके हर हिस्से को जांचा और उसके हाल को कैमरे मेें भी कैद किया, ताकि खामियां को समय रहते ठीक किया जा सके।


गौरतलब हैै कि भोपाल स्टेशन पर ही एफओबी का एक हिस्सा ढह जाने से सुरक्षा पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। ऐसी घटना कहीं और न हो, इससे अधिकारी हरकत में आ गए हंै। भोपाल हादसे की जांच के साथ मंडल के अन्य रेलवे स्टेशनों पर बने फुट ओवर ब्रिज की बारीकी से जांच पड़ताल शुरू कर दी गई है। शुक्रवार को एडीईएन और आईओडब्ल्यू के साथ ही भोपाल से आए ब्रिज स्टाफ ने पुल के कमजोर पहलुओं को बारीकी से देखा। रेलवे अधिकारियों ने जांच कर पुल की स्थिति को कैमरे में कैद भी किया।
रेलवे सूत्रों के अनुसार स्थानीय रेलवे स्टेशन पर पैदल पुल वर्ष 1970 में बनाया गया था। वर्ष 2016-17 में इस पुल का विस्तार कर प्लेटफार्म क्रमांक 4 तब विस्तारित किया गया था। अलग-अलग अधिकारियों द्वारा हर तीन माह में औपचारिक जांच कर ली जाती है। यहां 50 साल पुराने सीढिय़ों वाले पैदल पुल की जगह रैंप वाला पुल बनाने की जरूरत हैं। लेकिन रेलवे इसी 50 साल पुराने एफओबी की थोड़ी बहुत मरम्मत कराने के बाद रंगरोगन कराकर इतिश्री कर लेता है। जबकि यात्रियों का दबाव लगातार बढ़ रहा है।
यात्रियों को उठाना पड़ता है जोखिम
प्लेटफार्म के किनारों पर टाइल्स व पेवर ब्लॉक टूटे है। इससे सैकडों यात्रियों को ट्रेन में सवार होते और उतरते समय अपनी जान जोखिम में डालना पड़ती है। बार-बार शिकायत के बाद भी सुधार कार्य नहीं हुआ। घटिया निर्माण व रेलवे अधिकारियों की लापरवाही के कारण नया विस्तारित प्लेटफार्म क्रमांक 2 व 3 भी धंस गया है।

कुर्सियां टूटीं, छोटे शेडों में नही बैठने की व्यवस्था
रेलवे प्लेटफार्म पर रखी कई कुर्सियां लम्बे समय से टूटी पड़ी हंै। इनको बदलवाने या सुधारने की सुध जिम्मेदार अधिकारी नहीं ले रहे है। साथ ही कई शेडों में रेलवे ने कुर्सियां नहीं रखवाई है। जिससे यात्री घंटों खड़े रहकर ट्रेनों का इंतजार करने मजबूर है।

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned