रुपयों के लालच में गांजा तस्कर की पत्नी ने साथी को ही उतारा था मौत के घाट

हलाली कॉलोनी के पास पांच दिन पहले पेटी में मिला था शव

By: govind saxena

Published: 28 Sep 2020, 09:08 PM IST

विदिशा. शहर की हलाली कॉलोनी के पास गांजा तस्कर पप्पन सिंधी के मकान में डबल बैड की पेटी में मिला शव बैरागढ़ के कमल सिंधी का था। पुलिस ने इस बात का खुलासा किया है कि कमल को पप्पन सिंधी की पत्नी रानी केवट ने गांजे के रुपए न देने पर साजिश के तहत अपने घर बुलाकर और साथियों के साथ मिलकर मौत के घाट उतारा था। पप्पन सिंधी गांजे की तस्करी में पहले से जेल में बंद है। कमल पहले से पप्पन के साथ मिलकर गांजे की तस्करी करता था। पुलिस ने पूरी पड़ताल के बाद सोमवार को इस हत्या का खुलासा किया। इस हत्या में दो नाबालिग भी शामिल हैं।

मृतक कमल सिंधी की पत्नी कविता के अनुसार पुलिस ने बताया कि 23 सितंबर को अपने पुत्र अंकित और साथी लक्ष्मीनारायण के साथ अदालत में कोई गाड़़ी छुड़वाने आया था। यहां कमल ने अपने पुत्र से 15-20 मिनट में आने को कहा और कहीं चला गया। वहां से पप्पन सिंधी के घर पहुंचकर उसने अपनी पत्नी को फोन लगाया कि मैं रानी केवट के घर आया हूं, इसके कुछ रुपए देना हैं, रुपए देकर मैं निकल जाऊंगा। इसके बाद जब काफी देर हो गई तो पत्नी ने फिर फोन लगाया तो कमल का फोन बंद हो गया। अदालत में इंतजार कर रहे कमल के लडक़े ने भी फोन लगाया, लेकिन फोन बंद था। उसे कविता ने बताया कि कमल वहीं पप्पन सिंधी केघर पर है। इसके बाद कमल का लडक़ा पप्पन सिंधी के घर पहुंचे। यहां घर का दरवाजा खुला था डबल बैड का सामान एक ओर ढेर लगा था, जबकि अधखुली पेटी में कमल का शव खून से लथपथ पड़ा था। तब तक कमल की पत्नी कविता भी मौके पर पहुंच गई और उसकी रिपोर्ट पर पुलिस ने रानी पत्नी पप्पन सिंधी और अंकित अहिरवार सहित दो अन्य आरोपियों के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर लिया। मौके पर एसपी विनायक वर्मा भी पहुंचे और सीएसपी, सिविल लाइन तथा कोतवाली टीआइ के नेतृत्व में टीम गठित कर आरोपियों को पकडऩे को कहा।

मृतक की गाड़ी लेकर ही फरार हुए थे आरोपी
विवेचना में पुलिस को पता चला कि आरोपी मृतक की गाड़ी से ही फरार हुए थे। चौतरफा दबिश से हत्या की मास्टर माइंड और मुख्य आरोपी रानी केवट के साथ ही सतीश मेहरा, मोहन उर्फ बिट्टू रघुवंशी, अभिषेक लोधी और दो अन्य नाबालिग आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए। अंकित उर्फ अंकेश अहिरवार फरार है।

रानी ने किया था वार, फिर साथियों ने फावड़े से ले ली जान
सिविल लाइन टीआइ कमलेश सोनी ने बताया कि मुख्य आरोपी रानी ने अपने साथियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम देना स्वीकार किया है। उसने बताया कि मृतक कमल और उसका पति पप्पन सिंधी गांजे का कारोबार साथ मिलकर करते थे। पप्पन इन दिनों जेल में बंद है। पप्पन को कमल सिंधी से गांजे के काफी पैसे लेना थे जो कमल नहीं दे रहा था, इसलिए रानी केवट ने कमल को मारने की साजिश रची थी। उसने साजिश के तहत कमल को अपने घर बुलाया, पहले कमल का ध्यान भटकाकर रानी ने उसकी गर्दन पर चाकू से हमला किया और इसी दौरान उसके साथियों ने फावड़े से उसके सिर और गर्दन पर वार कर उसे मार डाला। हत्या के बाद आरोपियों ने डबल बैड की पेटी का सामान निकाला और उसमें कमल का खून से लथपथ शव पटक दिया।

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned