गोबरहेला समेत 8 गांवों में आज से हाईस्कूल शुरू

गोबरहेला समेत 8 गांवों में आज से हाईस्कूल शुरू
Vidisha photo

Shankar Sharma | Updated: 15 Jun 2015, 11:35:00 PM (IST) Vidisha, Madhya Pradesh, India

 आठवीं के बाद दूसरे गांव में न जा पाने की मजबूरी के कारण स्कूल के कई बेटे-बेटियां पढ़ाई छोड़ देते थे

विदिशा। आठवीं के बाद दूसरे गांव में न जा पाने की मजबूरी के कारण स्कूल के कई बेटे-बेटियां पढ़ाई छोड़ देते थे। लेकिन इस बार जिले के आठ गांवों में मिडिल स्कूलों को हाईस्कूल में तब्दील कर देने से सैकड़ों बच्चों और उनके माता-पिता की बड़ी समस्या हल हो गई है। गोबरहेला समेत ऎसे आठ स्कूलों में आज 16 जून को प्रवेशोत्सव मनेगा।

इसके साथ ही यहां इस वर्ष नवमी में प्रवेश लेने वाले बच्चों के साथ ही आठवीं के बाद पढ़ाई छोड़ देने वाले बच्चों को भी प्रवेश मिल सकेगा। इसके लिए शिक्षा विभाग ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। उल्लेखनीय है कि गोबरहेला में पिछले तीन साल में करीब 25 बेटियों ने मिडिल के बाद पढ़ाई इसीलिए छोड़ दी थी, क्योंकि उनके गांव में हाईस्कूल नहीं था। इन बेटियों के माता-पिता उन्हें पढ़ाई के लिए दूसरे गांव भेजने को तैयार नहीं थे।

इस वर्ष आठवीं पास हुई कई बेटियों की भी यही स्थिति होना थी। हालांकि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान यहां हाईस्कूल खोलने की घोष्ाणा कर चुके थे, लेकिन शासन की ओर से उस पर अमल नहीं हो सका था। पत्रिका ने गांव का दौरा कर बेटियों और उनके अभिभावकों की आवाज को बुलंद कर शासन-प्रशासन तक पहुंचाया। पत्रिका ने 2 जून को प्रकाशित किया कि- सुनो मामा शिवराज, भांजियों ने छोड़ा स्कूल। नतीजा यह हुआ कि शिक्षा विभाग के अधिकारी उसी दिन गांव पहुंचे और इस बार शिक्षण सत्र शुरू होते ही इस गांव में ही हाईस्कूल की पढ़ाई का रास्ता खुल गया। वहां सारी व्यवस्थाएं कर दीं।

इनकी संवरी तकदीर

मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद इस शिक्षण सत्र से जिन आठ गांवों में मिडिल स्कूलों को प्रोन्नत कर हाईस्कूल बनाया गया है, उनके विद्यार्थियों और अभिभावकों में खुशी का माहौल है। इन स्कूलों में गोबरहेला के साथ ही सुनपुरा, छीरखेड़ा, खेरूआ हाट, पैरवारा, भाटनी, देहरी और बरखेड़ा गंभीर शामिल हैं। इसके अलावा पालकी और भालबामोरा के हाईस्कूलों को भी मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद हायर सेकंडरी में प्रोन्नत किया गया है। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप मिडिल से हाईस्कूल और हाईस्कूल से हायर सेकंडरी स्कूलों में प्रोन्नत विद्यालयों मे शासन ने स्टॉफ भी स्वीकृत कर दिया है। प्रत्येक हाईस्कूल में एक प्राचार्य, 6 संविदा वर्ग-एक के शिक्षक, एक संविदा वर्ग-तीन का शिक्षक तथा एक डाटा एंट्री आपरेटर का पद स्वीकृत है।

62 हजार विद्यार्थी

जिले के शासकीय-अशासकीय स्कूलों में नवमी से बारहवीं तक के विद्यार्थियों की संख्या करीब 62 हजार है। इसमें से वर्ष 2014-15 में शासकीय स्कूलों में यह संख्या 37 हजार 232 थी। करीब इतनी ही संख्या जिले के प्रायवेट स्कूलों में भी बताई गई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned