scriptGovernment schools of MP | आठ साल में एक लाइन लिखना-पढऩा भी नहीं सिखा पाए सरकारी स्कूल | Patrika News

आठ साल में एक लाइन लिखना-पढऩा भी नहीं सिखा पाए सरकारी स्कूल


MP अजब है...VIDISHA और गजब है...

विदिशा

Published: September 09, 2022 04:58:35 pm

विदिशा. जिन बच्चों ने आठ साल पहले पहली कक्षा में स्कूल में प्रवेश लिया था, वे अब आठवीं तक आ गए, लेकिन मजाल है कि हिन्दी की एक लाइन भी पढ़ पाएं, अपने शिक्षक या जिले का नाम भी सही लिख पाएं। आठ साल में क्या सीखा, यह कहने की स्थिति में न तो विद्यार्थी हैं और न ही शिक्षक। बस मध्यान्ह भोजन बंट रहा है, पुस्तकें, यूनीफार्म मिल रही है, छात्रवृत्तियां मिल रहीं हैं। शिक्षकों का वेतन और वेतन भत्ते समय से मिल रहे हैं। न कोई निरीक्षण करने जाता है और न ही स्थिति को देखने-समझने।
आठ साल में एक लाइन लिखना-पढऩा भी नहीं सिखा पाए सरकारी स्कूल
आठ साल में एक लाइन लिखना-पढऩा भी नहीं सिखा पाए सरकारी स्कूल
जब यही बच्चे आठवीं से निकलकर हाईस्कूल में पहुंचते हैं तो होता है हकीकत से सामना। जिन बच्चों को एक लाइन भी लिखना नहीं आता, उन्हें हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा के लिए तैयार करना भी हाईस्कूल शिक्षकों के सामने चुनौती से कम नहीं। लेकिन कमजोर नींव को मजबूत करने पर शिक्षा विभाग और शासन-प्रशासन का कोई ध्यान नहीं। हां, ग्रामीण जरूर यह बात समझते और कहते हैं कि साहब, हमारी तो जिन्दगी बर्बाद हो गई, लेकिन स्कूलों के रवैये से हमारे बच्चों की भी जिंदगी बर्बाद हो रही है।
---

आठवीं का कोई बच्चा नहीं पढ़ पाता एक लाइन

शमशाबाद तहसील का ग्राम कोलुआ। यहां एक ही परिसर में प्राथमिक और माध्यमिक शालाएं हैं। प्राथमिक में 52 और माध्यमिक में 56 विद्यार्थी दर्ज हैं। हालांकि स्कूल में बच्चों की उपस्थिति बहुत कम रहती है। दोनों शालाओं में मिलाकर केवल नीतू भार्गव ही एकमात्र नियमित शिक्षिका हैं, बाकी पांच अतिथि शिक्षक यहां पदस्थ हैं। अतिथि शिक्षक दिनेश यादव बताते हैं कि स्कूल में कक्षा आठ में 18 बच्चे दर्ज हैं। लेकिन जब पत्रिका टीम ने पांचवीं और आठवीं के बच्चों से उनकी किसी भी पुस्तक की एक लाइन पढ़वाना चाही तो कोई बच्चा नहीं पढ़ सका। चौथी के अजय यादव, पांचवीं की सिमरन और आठवीं के अतुल, समर और शिवानी यादव को एक लाइन लिखना तो दूर विदिशा शब्द भी सही लिखना नहीं आया। ये बच्चे अपने शिक्षक का नाम तक नहीं लिख पाते हैं।
---

बच्चे नहीं लिख पाते शिक्षक का नाम

लटेरी तहसील के ग्राम नरसिंहपुर की प्राथमिक शाला में 42 बच्चे दर्ज हैं। यहां प्रभारी संजीव नामदेव हैं और एक अतिथि शिक्षिका हैं। दो कमरों की शाला में एक कमरे में पानी टपकने से सबको एक ही कक्ष में बैठाया जाता है, यहां पांचवीं तक के बच्चे हैं, लेकिन पांचवीं के किसी भी बच्चे को हिन्दी पढऩा या एक लाइन लिखना तक नहीं आता। ये अपने शिक्षक का नाम तक नहीं लिख पाते।
---

50 लाख खर्च, फिर भी बच्चे ज्ञान शून्य

सरकारी स्कूल के किसी भी स्कूल के एक शिक्षक का वेतन आठ साल में कम से कम 30 लाख रुपए होता है। इसके बाद अतिथि शिक्षकों का वेतन, स्कूल यूनीफार्म, मध्यान्ह भोजन, छात्रवृत्तियां, किताबों सहित अन्य सुविधाओं पर आठ साल में एक प्राथमिक स्कूल में ही 50 लाख रुपए से ज्यादा खर्च हो जाते हैें, लेकिन सैंपल टेस्टिंग के लिए कोलुआ और नरसिंहपुर के स्कूल बताते हैं कि आधा करोड़ से ज्यादा खर्च करने पर भी बच्चों का ज्ञान शून्य से आगे नहीं बढ़ सका है।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

'आज भी TMC के 21 विधायक संपर्क में, बस इंतजार करिए', मिथुन चक्रवर्ती ने दोहराया अपना दावाखाना वहीं पड़ा था, डॉक्युमेंट्स और सामान भी वहीं थे , लेकिन... रिसॉर्ट के स्टाफ ने बताया कैसे गायब हुई अपने कमरे से अंकिताVideo: महबूबा मुफ्ती ने किया Pakistan PM का समर्थन, जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर दिया ये बयान'PFI पर कार्रवाई करने में इतना वक्त क्यों लगा?', प्रियंका चतुर्वेदी ने कश्मीर को लेकर PM मोदी पर साधा निशाना2 खिलाड़ी जिनका करियर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बीच सीरीज में हुआ खत्म, रोहित शर्मा नहीं देंगे मौका!चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग हुए हाउस अरेस्ट! बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी के Tweet से मचा हड़कंपयुवाओं को लश्कर-ए-तैयबा और ISIS में शामिल होने को उकसा रहा था PFI, ग्लोबल फंडिंग के सबूतअंकिता हत्याकांड : जांच के लिए गठित की गई SIT, CM ने कहा- "चाहे कोई भी हो, अपराधियों को नहीं बख्शा जाएगा"
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.