scriptHalali Dame Accident | हलाली में मौज की लहरों के साथ छिपी है मौत भी.... | Patrika News

हलाली में मौज की लहरों के साथ छिपी है मौत भी....

हर साल यहां होती है जलसमाधि, एनडीआरएफ-एसडीआरएफ की टीम ने दूसरे दिन निकाले दो और शव

विदिशा

Published: August 01, 2022 06:10:32 pm

विदिशा. प्रकृति का रंग रूप बारिश के दिनों में ही खिलता है। इसके सौंदर्य को देखने लोग घरों से निकल पड़ते हैं, जलप्रपात, नदी, तालाब, बांध और पहाड़ी की छटा इन दिनों देखते ही बनती है। लेकिन यह भी उतना ही सच है कि ऐसे स्थानों का आनंद लेते समय यदि जरा भी लापरवाही बरती कि मौज की ये सैर सीधे मौत की गोदी में पहुंचा देती है। विदिशा और रायसेन के बीच बना हलाली बांध ऐसा ही एक स्थान है जहां जलक्रीड़ा और प्राकृतिक नजारे देखते-देखते लोग अपनी हदें भूल जाते हैं और यही कारण है कि यहां लगभग हर साल किसी न किसी की जलसमाधि होती है। बांध पूरा भरने पर यहां प्राकृतिक झरने का आनंद लेने, पिकनिक करने तक तो ठीक है, लेकिन पानी में हुड़दंग हमेशा बड़ा घातक होता है। ऐसा ही इस बार भी रविवार को हुआ, जिसमें एक पिता पुत्र सहित भोपाल के तीन लोग हलाली के पानी में जा समाए। इनमें से एक शव तो रविवार की शाम ही निकाल लिया गया था, लेकिन दो शव एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और होमगार्ड की टीम की भारी मशक्कत के बाद सोमवार की सुबह 11 बजे तक निकल सके।
हलाली में मौज की लहरों के साथ छिपी है मौत भी....
हलाली में मौज की लहरों के साथ छिपी है मौत भी....
-------

पिता-पुत्र सहित तीन की मौत

घटना रविवार दोपहर करीब 1 बजे की है। भोपाल के शाहजहांनाबाद निवासी 40 वषी्रय वसीम खान, उनका पुत्र 15 वर्षीय रेहान खान के साथ ही आरिफ नगर निवासी 32 वर्षीय शफीक खान पिकनिक मनाने के बाद पानी की ओर चले गए। यह छरछरे से बिल्कुल विपरीत दिशा में पुल से बांध की ओर का हिस्सा था। यहां पानी करीब 20-30 फीट तक गहरा बताया जाता है। यहीं पर भोपाल का ही राहुल भी पानी में उतरा। पानी में नहाते नहाते ये लोग आगे पुल की ओर उस तरह आ पहुंंचे जहां पानी गहरा था। यहां राहुल डूबने लगा तो उसे तेजी से आगे बढकऱ वसीम खान ने निकालकर किनारे लगाया, लेकिन बाकी रेहान और शफीक को बचाने के प्रयास में वसीम भी गहरे पानी में चले गए और उनकी मौत हो गई। वसीम का शव रविवार की शाम 5 बजे तक निकाल लिया गया था। लेकिन उनके पुत्र रेहान का शव सोमवार की सुबह 8 बजे और फिर शफीक खान का शव 11 बजे तक निकाला जा सका।
-----

मैं गड्ढे में उतरा तो 30 फीट नीचे टकराई मृतक की बॉडी

जो लोग डूबने की जगह बता रहे थे, वे भी सही नहीं बता पा रहे थे। ऐसे में अंदाज से हम उस क्षेत्र में तलाश कर रहे थे। हमू पानी में उतरकर भी तलाश कर रहे थे। दोनों हाथ, आंखें और पैर भी पानी में तलाश में जुटे थे। तभी एक बड़ी चट्टाननुमा पत्थर के नीचे लगा कि गहराई ज्यादा है। हम नीचे उतरे, करीब 30 फीट की गहराईमें उतरे, पैरों में लगा कि कुछ टकराया। वह शफीक ही था। मेरे पैरों से जैसे ही शव टकराया, तो पाया कि वह पत्थर के नीचे फंसा हुआ है। इसके बाद शव को निकाला गया। इस दौरान पूरे हाथ पैरों में कुछ संक्रमण से जलन मचने लगी है।
(जैसा एसडीआरएफ के जवान धनेंद्र साहू ने पत्रिका को बताया)

------------

गुस्साए लोगों ने किया चक्काजाम

मौके से रविवार को ही वसीम का शव जा चुका था। सोमवार की सुबह रेहान का शव भी निकालकर रवाना किया गया, लेकिन जब शफीक का शव बांध के पानी से निकला तो उस समय आरिफनगर भोपाल के लोग बडी संख्या में मौके पर मौजूद थे। ये लोग प्रशासन और खासकर सम्राट अशोक सागर परियोजना के उस ठेकेदार पर लापरवाही का आरोप लगा रहे थे, जिसके द्वारा यहां निर्माण कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है। गुस्साए लोगों ने शफीक का शव निकलने के बाद वाहन को पुल के बीचों बीच खड़ा कर जाम लगा दिया और प्रशासन से मांग की कि ठेकेदार के खिलाफ एफआइआर कराई जाए और मृतक के परिजनों को राहत राशि दी जाए। यहां करारिया टीआइ अरूणा सिंह पहले से मौजूद थीं, फिर एसडीएम जीएस वर्मा मौके पर पहुंचे। किसी तरह समझाकर और आश्वासन देकर मौके से शव को भिजवाया और जाम खुलवाया गया।
--------

एसडीएम ने धनेंद्र को किया पुरस्कृत

शव तलाशने में खासी मशक्कत करने और शफीक के शव को 30 फीट गहरे गड्ढे में से ढूंढ निकालने के लिए एसडीआरएफ के धनेंद्र सिंह को एसडीएम जीएस वर्मा ने मौके पर ही नकद राशि देकर पुरस्कृत किया। उन्होंने धनेंद्र से यह भी जाना कि किस तरह उसने इतने गहरे में से शव को ढंृढ निकाला।
---

करीब 40 लोगों की टीम लगी थी रेस्क्यू में

एनडीआरएफ के टीम कमांडर नागेंद्र सिंह ने बताया कि गृह सचिव से मिले संदेश के बाद रविवार की रात हमारी टीम के 20 सदस्य करीब 11 बजे हलाली बांध आ गए थे। सुबह 11 बजे तक दोनों शव निकाल लिए गए। एसडीआरएफ के कंपनी कमांडर डीआर वर्मा ने बताया कि उनकी टीम के 9 सदस्य रेस्क्यू में लगे थे। इसमे ंसे आखरी शव धनेंद्र साहू ने निकाला। इसके अलावा विदिशा होमगार्ड की ओर से एसडी पिल्लई और उकी टीम सहित तीनों समूहों के करीब 40 लोग रेस्क्यू में लगे रहे।
---

रविवार को छोटी पचमढ़ी में थे दो हजार लोग

मौके पर मौजूद स्थनीय पटवारी और अधिकारियों ने बताया कि रविवार को भोपाल, विदिशा और रायसेन के करीब दो हजार लोग हलाली और पास ही ब्ल्यू वाटर नामक कुंड पर थे, जिसे छोटा पचमढ़ी कहा जाता है। कई लोग छरछरा देखने पहुंचे थे। ऐसे में कोई भी लापरवाही भारी पड़ सकती है। बता दें कि पिछले साल छोटी पचमढ़ी में ही भोपाल के तीन युवकों की मौत हुई थी।
------------

अब प्रशासन सख्त, छरछरे और छोटी पचमढ़ी कुंड प्रतिबंधित

रविवार को हुए इस हादसे के बाद कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने वन विभाग, जलसंसाधन, पुलिस और राजस्व अधिकारियों को सख्त इंतजामों के निर्देश दिए हैं। उन्होंने समन्वय के लिए रायसेन पुलिस अधीक्षक से भी चर्चा की है। नई व्यवस्था के तहत अब--छोटी पचमढ़ी के ब्लू वाटर कुंड पर सैंकड़ों लोग पहुंच रहे हैं, फिर हादसा न हो इसलिए वहां जाने का रास्ता फेंसिंग से बंद किया जा रहा है। फेंसिंग उपरांत वन, पुलिस, राजस्व और पंचायत संयुक्त रूप से चौकसी करेंगे, शनिवार-रविवार को अधिक पुलिस बल तैनात किया जाएगा।
-हलाली बांध के छरछरे के पास जलसंसाधन विभाग कार्य करा रहा है। इसलिए वहां आसपास लोगों का जाना प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसके लिए रायसेन की ओर जाने वाले रास्ते पर अवरोध लगाकर फेंसिंग कर नीचे की ओर जाने वाला रास्ता बंद किया जा रहा है। जलसंसाधन विभाग का गेट सिर्फ ग्रामीणों के लिए खुला रहे, यह व्यवस्था जलसंसाधन विभाग और पुलिस को करने के लिए कहा गया है।
-जब तक जलसंसाधन विभाग द्वारा कराया जा रहा निर्माण कार्य पूरा नहीं हो जाता, तब तक छरछरे पर जाना प्रतिबंधित कर दिया गया है, क्योंकि निर्माण के दौरान कई जगह बड़े और गहरे गड्ढे भी हो रहे हैं जिसमें पानी की गहराई पता नहीं चलती।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Gujarat News: जामनगर के होटल में लगी भयानक आग, स्टाफ सहित 27 लोग थे मौजूद, सभी सुरक्षितत्रिपुरा कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन पर जानलेवा हमला, गंभीर रूप से हुए घायलबांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Karnataka High Court: एक्सीडेंट में माता-पिता की मौत होने पर विवाहित बेटियां भी मुआवजे की हकदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.