भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के विजेता हुए पुरस्कृत

प्रतियोगिता में 7 हजार बच्चों ने की थी हिस्सेदारी

विदिशा। अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा पूर्व में जिलेभर के विभिन्न स्कूलों में आयोजित की गई भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के विजेताओं को रविवार को सिविल लाइंस क्षेत्र स्थित गायत्री मंदिर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान सम्मानित किया गया। इस प्रतियोगिता में विभिन्न स्कूल के करीब ७ हजार से अधिक बच्चों ने हिस्सेदारी की थी।

मालूम हो कि दो माह पूर्व जिलेभर के सरकारी और निजी स्कूल में गायत्री परिवार द्वारा इस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। जिसमें बच्चों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया था। रविवार को आयोजित कार्यक्रम में मुख्यअतिथी के रूप में गायत्री परिवार भोपाल से संध्या पांडे, एसएटीआई कॉलेज के केके पंजाबी, शिक्षा विभाग की सहायक संचालक समीता दीक्षित , गंजबासौदा के श्याम सुंदर माथुर और राजेंद्र श्रीवास्तव मौजूद रहे। अतिथियों द्वारा सभी तहसील स्तर पर प्रथम, द्वितीय और तृतीय आए प्रतियोगियों के साथ ही जिला स्तर पर प्रथम, द्वितीय और तृतीय रहे प्रतियोगियों को पुरस्कृत किया गया। कुल ३६ प्रतियोगी पुरस्कृत हुए। इस दौरान प्रथम आने वाले प्रतियोगियों को 500 रुपए नकद, प्रमाणपत्र और गायत्री परिवार की पुस्तक भेंट की गई। जबकि द्वितीय विजेता को 400 रुपए नकद और तृतीय स्थान पर आने वाले विजेताओं को 300 रुपए नकद राशि, प्रमाणपत्र आदि दिए गए। कार्यक्रम की संयोजक रश्मि पोंडवाल रहीं। इस दौरान बड़ी संख्या में विभिन्न स्कूल के विद्यार्थी और उनके अभिभावक तथा गायत्री परिवार सदस्य मौजूद रहे।

भारतीय संस्कृति की दी जानकारी
कार्यक्रम में मुख्यअतिथि के रूप में आए वक्ताओं ने भारतीय संस्कृति के संबंध में जानकारी दी और इसे बचाए रखने के तरीके बताए। वक्ताओं ने कहा कि आज भारतीय संस्कृति पर हर तरफ से हमला हो रहा है। पाश्चात्य संस्कृति हावी होती जा रही है। इसलिए हमें अपने बच्चों को संस्कारवान बनाना है और उन्हें भारतीय संस्कृति के संंबंध में बचपन से ही बताना होगा, तभी वे इसको ठीक से समझ सकेंगे और आने वाली पीड़ी भारतीय संस्कृति को सहेजकर रख पाएगी। इसके लिए पहल प्रत्येक परिवार में अभिभावकों को ही करनी होगी। वहीं गायत्री परिवार के संबंध में भी बताना होगा। गायत्री परिवार भारतीय संस्कृति को बचाने और इसके प्रचार-प्रसार के लिए समय-समय पर आयोजन करता रहता है। जिसमें सभी की भागीदारी आवश्यक है।

Anil kumar soni Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned