kisan karj mafi : 85 हजार किसानों को नहीं मिल पा रही खाद

बोवनी शुरू पर किसानों को नहीं मिल रही सोसायटियों से खाद

विदिशा। जिले में किसानों की खाद किसान माफी Kisan Karj Mafi योजना में अटक गई है। बारिश को देखते हुए किसानों farmers ने बोवनी कर दी और उन्हें अब डीएपी की जरूरत है, लेकिन ऋण राशि जमा नहीं कर पाने के कारण उन्हें सोसायटियों से खाद नहीं मिल रही। ऐसे किसानों farmers news की संख्या अधिक होने से सोसायटियां भी खाद का उठाव नहीं कर रही और किसानों को भटकना पड़ रहा है। किसानों का कहना है किकिसान माफी योजना kisan karj mafi yojana में किसानों की दो लाख रुपए तक की किसान माफी योजना होना है। इसकी प्रक्रिया में उन्हें उलझाए रखा है। न उनका किसान माफी योजना हो न ही योजना को ठीक से समझाया जा रहा।

 

किसानों की संख्या करीब 85 हजार
इन स्थितियों के बीच वे राशि भी जमा नहीं कर पा रहे। शमशाबाद के किसान रामकृष्ण भार्गव के अनुसार उनका कुल 2 लाख 12 हजार का कर्ज था। इसमें करीब 10 हजार रुपए माफ हुए। जबकि उनके खाते में सोयाबीन बीमा की 77 हजार रुपए की राशि भी जमा है। इसकेे बाद भी 1 लाख 63 हजार 400 रुपए का कर्ज बताया जा रहा और उन्हें सोसायटी से खाद-बीज नहीं दिया जा रहा। 85 हजार किसानों के सामने खाद का संकट मिली जानकारी के अनुसार जिले में कुल किसानों की संख्या 2 लाख 95 हजार है इसमें 30 प्रतिशत किसान ऋण जमा नहीं कर पाने के कारण इन सोसायटियों से खाद नहीं ले पाएंगे। ऐसे किसानों की संख्या करीब 85 हजार बताई गई है।

डीएपी ही किसानों द्वारा लिया गया
किसानों ने बताया कि समिति प्रबंधक पुराना ऋण चुकाने के बाद ही खाद देने की बात कहकर उन्हें सोसायटियों से वापस कर रहे हैं। इन किसानों को अब निजी दुकानों से ही डीएपी व यूरिया आदि की व्यवस्था करना पड़ेगी। 15 हजार में से सिर्फ 5 मेट्रिक टन खाद उठा इधर कृषि विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जिले में पर्याप्त खाद उपलब्ध है। करीब 15 हजार मेट्रिक टन डीएपी की उपलब्धता है जिसमें से अभी 5 हजार मेट्रिक टन डीएपी समितियों में गया है। इसमें से सिर्फ 3 हजार मेट्रिक टन डीएपी ही किसानों द्वारा लिया गया है। वहीं जिले में यूरिया की भी 8 हजार मेट्रिक टन की उपलब्धता है।

 

बारिश को देखते हुए जिले में बोवनी की तैयारी शुरू हो चुकी है। कुछ स्थानों पर किसान बोवनी भी करने लगे हैं। सोयाबीन बोवनी इस बार कुछ देरी से शुरू हुई। पीके चौकसे, कृषि उपसंचालक किसानों की बकाया राशि जमा करने का कार्य रविवार को भी किया गया है। किसानों को शीघ्रता से राशि जमा कराना चाहिए। इससे उन्हें सोसायटियों से खाद,बीज की उपलब्धता में किसी तरह की परेशानी नहीं होगी।
विनय प्रकाश सिंह, सीईओ, जिला सहकारी केंद्रीय बैंक

Bhupendra malviya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned