MP में आफत की बारिश, कमलनाथ बोले - मोदी जी आप देश के PM हैं न कि गुजरात के...

MP में आफत की बारिश, कमलनाथ बोले - मोदी जी आप देश के PM हैं न कि गुजरात के...

KRISHNAKANT SHUKLA | Publish: Apr, 17 2019 11:16:56 AM (IST) Vidisha, Vidisha, Madhya Pradesh, India

सीएम कमलनाथ ने पीएम मोदी से कहा - भले यहां आपकी पार्टी की सरकार नहीं है लेकिन लोग यहां भी बस्ते है

भोपाल. मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में आंधी के साथ ओलावृष्टि और तेज बारिश होने से किसानों का काफी नुकसान हुआ। आकाशीय बिजली गिरने से विभिन्न जिलों में 13 लोगों की मौत हो गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मध्यप्रदेश को किसी भी प्रकार की राहत राशि न दिए जाने पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्विटर पर नाराजगी जाहिर की।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, "मोदी जी , आप देश के पीएम ना कि गुजरात के। एमपी में भी बेमौसम बारिश व तूफ़ान के कारण आकाशीय बिजली गिरने से 10 से अधिक लोगों की मौत हुई है। लेकिन आपकी संवेदनाएं सिर्फ़ गुजरात तक सीमित ? भले यहां आपकी पार्टी की सरकार नहीं है लेकिन लोग यहां भी बस्ते है।

मौसम विभाग के अनुसार अभी और बारिश के संकेत

मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को भी कहीं-कहीं बारिश या बूंदाबांदी हो सकती है। बंगाल की खाड़ी और अरब सागर की ओर से आ रही नमी तथा राजस्थान में बने प्रेरित चक्रवात के चलते पूरे प्रदेश में नमी का प्रवाह बढ़ा है।

खासकर पूर्वी मध्य प्रदेश में इसका असर अधिक देखने को मिला। एक दिन पहले हुई बारिश और बादलों के कारण मंगलवार को अधिकतम तापमान में करीब छह डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की जा चुकी थी। बारिश के कारण रात में और गिरावट दर्ज की गई।

मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों के अनुसार फिलहाल अगले एक से दिन तक भीषण गर्मी से राहत जारी रहेगी। इसकी वजह शक्क्तिशाली पश्चिमी विक्षोभ है। इसके चलते राजस्थान और उसके आसपास एक प्रेरित चक्रवात बना है। बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से नमी आ रही है, जिससे मौसम में बदलाव हुआ है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned