बिना रजिस्टे्शन के चल रहा था नर्सिंग होम, बीएमओ ने किया सील

ब्लड का कारोबार करने का लगा था आरोप

By: govind saxena

Updated: 20 May 2021, 10:28 PM IST

सिरोंज. जिस राज नर्सिंग होम पर दो दिन पहले एक गर्भवती के लिए जरूरी ब्लड के 8 हजार रुपए वसूलने का आरोप लगा था, वह बिना रजिस्ट्रेशन के ही चलाया जा रहा था। गुरुवार को नर्सिंग होम पहुंचे बीएमओ ने पड़ताल की और रजिस्ट्रेशन तथा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की अनुमति न होने पर नर्सिंग होम को सील कर चार दिन में जरूरी दस्तावेज प्रस्तुत करने को संचालक से कहा है।
चंद रोज पहले ही रक्तदान के जरिए समाजसेवियों द्वारा जुटाए गए रक्त के भी 8 हजार रुपए एक गर्भवती महिला के परिजनों से वसूल करने के मामला सुर्खियों में आने के बाद रजत सक्सेना ने इस मामले को सोशल मीडिया के जरिए उठाया था। इस पर विहिप और बजरंग दल के नेताओं ने एसडीएम और थाने में मामले की शिकायत की थी। इस पर एसडीएम अंजलि शाह ने बीएमओ डॉ. अभिषेक उपाध्याय को मामले की जांच करने को कहा था। जांच करने पहुंचे डॉ. उपाध्याय ने बताया कि रक्त के नाम पर रुपए वसूलने के कोई प्रमाण मौके पर नहीं मिले हैं। पीडि़त ने भी इसकी कोई शिकायत नहीं की थी। लेकिन एसडीएम के आदेश पर अस्पताल का निरीक्षण किया तो पता चला कि उसका रजिस्ट्रेशन ही मार्च में खत्म हो चुका है, फिर भी अस्पताल संचालित है। वहीं मप्र प्रदूषरण नियंत्रण मंडी का एनओसी भी राज नर्सिंग होम के पास नहीं था। इस पर राज हॉस्पिटल डे केयर के पांच कमरे किए सील किए गए। दवाओं के सैंपल भी लेकर बंद लिफाफे में सील किए गए। डॉ. उपाध्याय के अनुसार अस्पताल संचालक का कहना था कि उनका नर्सिंग होम काफी समय से बंद है और यहां कोई इलाज नहीं होता है। इस कार्रवाई के दौरान नायब तहसीलदार सुमन बाथम भी मौजूद रहीं।

वर्जन...
राज नर्सिंग होम बिना रजिस्ट्रेशन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एनओसी के बिना चल रहा था। उसे सील कराया है। चार दिन में दस्तावेजों सहित जवाब मांगा है। जवाब मिलने पर एसडीएम, सीएमएचओ और कलेक्टर को अवगत कराया जाएगा।
-डॉ. अभिषेक उपाध्याय, बीएमओ सिरोंज

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned