वर्ष में एक बार सबको दर्शन देने खुलेगा राधारानी का दरबार

राधारानी का दरबार 14 सितंबर को सुबह खुलेगा

By: govind saxena

Updated: 13 Sep 2021, 11:13 PM IST

विदिशा. वर्ष में 363 दिन गुप्त सेवा में रहने और साल भर बाद खुलने वाला राधारानी का दरबार 14 सितंबर को सुबह खुलेगा। यहां दोपहर 12 बजे राधारानी की जन्म आरती होगी और धूमधाम से जन्मोत्सव मनेगा। इस दौरान पूरा नंदवाना क्षेत्र राधे राधे की टेर से गूंजेगा। आतिशबाजी होगी और प्रसादी वितरण किया जाएगा। यहां करीब तीन सौ साल पहले राधारानी की निधियों को बरसाने से लाकर विराजित कराया गया था, तब से राधारानी की साल भर गुप्त सेवा राधावल्लभीय हवेली में होती है और केवल राधाष्टमी पर ही यह दरबार सबके लिए खोला जाता है।


मंदिर के प्रधान सेवक मनमोहन शर्मा ने बताया कि नंदवाना की राधावल्लभीय हवेली में राधारानी की प्राचीन निधियां विराजित हैं, जिनकी साल भर गुप्त सेवा होती है और राधाष्टमी पर जन्म आरती के साथ ही उनका दरबार जनसामान्य के दर्शनों के लिए खोला जाता है। इस मौके पर राधारानी का खूबसूरत मोतियों, नगों और मोरपंखों से सुंदर श्रंगार किया जाता है। पालना झुलाया जाता है। दोपहर 12 बजे जन्मोत्सव आरती और तिलक दर्शन होगा। इसके बाद शाम 5 बजे उत्थापन दर्शन होंगे। शाम 6 बजे भोग दर्शन तथा मटकी छेदन, 6.30 बजे संध्या आरती के बाद 7 बजे से रात 10 बजे तक पालना दर्शन और बधाई के साथ ही हवेली संगीत होगा। 15 सितंबर को सुबह 5 बजे मंगल आरती के बाद दिन भर कार्यक्रम होंगे तथा रात 10 बजे शयन आरती के साथ ही पट फिर से साल भर के लिए बंद हो जाएंगे।

उमा भारती, प्रहलाद पटेल और साधना आईं थीं...
गत वर्ष कोरोना काल मेें पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती राधाष्टमी की पूर्व संध्या पर ही विदिशा आ गईं थीं, उन्होंने कहा था कि मैं हर साल बरसाने जाती थी, लेकिन इस बार संक्रमण के कारण नहीं जा पाई, इस दौरान राजस्थान पत्रिका में विदिशा के नंदवाना में राधा मंदिर और बरसाने की राधारानी के दरबार की खबर पढ़ी तो यहां चली आई। उन्होंने राधाष्टमी पर राधारानी के दरबार में दर्शन कर खूब भजन गाए थे। यहां केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल और मुख्यमंत्री की पत्नी साधना सिंह भी दर्शन को पहुंचीं थीं।

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned