दुकानों के सामने बांधी रस्सियां, तो हुआ सोशल डिस्टेंस का पालन

मंडीबामोरा। लॉकडाउन के तीसरे चरण में लगभग सभी दुकानें खुल गई हैं। जिससे बाजार में खासी भीड़ हो रही है। ऐसे में लोगों के बीच दूरियां कायम रखने की हिदायत प्रशासन ने दी है। वहीं इसका पालन करने के लिए कुछ दुकानदारों ने अपनी-अपनी दुकानों के सामने रस्सी बांधी ली है।

By: Anil kumar soni

Published: 05 May 2020, 09:39 PM IST

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जहां शासन-प्रशासन प्रयास कर रहे हैं। वहीं दुकानें खुलते ही कुछ दुकानदार भी इसके प्रति काफी सजग दिखे और अपनी दुकान के सामने रस्सी बांध दी। जिससे सामाजिक दूरी का पालन ग्राहकों से करवाया जा सके। किराना व्यवसायी राजेश जैन ने बताया कि लॉकडाउन में दुकान के सामने भीड़ एकत्रित नहीं हो इसलिए उन्होंने दुकान के बाहर शुरू से ही रस्सी बांध रखी है। किसी को भी दुकान के पर नहीं आने दिया जा रहा है। ग्राहकों के आर्डर लेकर उन्हें दूर ही रखा जाता है। दुकान से आर्डर का सामान निकालने के बाद उन्हें बुलाकर सामान देकर रूपए लिए जाते है। अद्रश्य दुश्मन कोरोना से बचने के लिए सावधानी बेहद जरूरी है।

पशु पालकों और उनके बच्चों को वितरित किए मास्क, साबुन और पहाड़े
मंडीबामोरा। नेहरू युवा केंद्र द्वारा ग्राम नगवासा में मंगलवार को बाहर से आए पशु पालकों को मास्क, साबुन के साथ ही बच्चों के लिए पहाड़ा वितरित किए गए।
इस दौरान नेहरू युवा केंद्र के पदाधिकारियों ने राजस्थान से ऊंट और भेंड़ लेकर आए पशु पालकों को कोरोना वायरस से बचाव के तरीके बताए। उन्हें साबुन देते हुए बार-बार साबुन से हाथ धोने और मुंह पर मास्क लगाने के लिए कहा। वहीं बच्चों की पढ़ाई के लिए उन्हें पहाड़े भी दिए। करीब ४५ पशु पालकों को यह सामग्री दी गई। इस दौरान मोहम्मद राशिद खां, एनवाईवी मंडल अध्यक्ष फखरूद्दीन खां, मोहम्मद सरफराज खां, डेरे के मुखिया बन्नाराम रेवाड़ी, सदस्य मंगलसिंह, लेखापाल रेवाड़ी, निरमा रेवाड़ी और त्रिलोक सहित समूह के बच्चे व महिलाएं आदि मौजूद रहीं।

Anil kumar soni Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned