मौहल्लों से नहीं महापुरुषों के नाम से होगी स्कूलों की पहचान

नगर पालिका लाएगी परिषद की बैठक में प्रस्ताव

By: Krishna singh

Published: 05 Sep 2019, 07:03 AM IST

भूपेंद्र मालवीय. विदिशा. शहर में अधिकांश शासकीय स्कूल मौहल्ले के नाम से संचालित हो रहे हैं। इन सभी स्कूलों की सूची तैयार कर नगरपालिका स्कूलों के नामकरण करने की तैयारी कर रही है। इसके तहत इन स्कूलों के नाम महापुरुषों पर रखे जाएंगे ताकि स्कूलों की अपनी अलग गरिमामय पहचान हो सके।

मालूम हो कि शहर में स्कूलों का वर्षों बाद भी नामकरण नहीं हो पाया। मौहल्लों में आवश्यकतानुसार स्कूल शुरू होते गए। इनका दर्जा भी बढ़ता गया लेकिन इनकी पहचान मौहल्ले से होती रही। एक-दो स्कूल ही ऐसे हैं जो महापुरुषों के नाम पर हैं। शेष सभी स्कूलों की अपने नाम की कोई पहचान नहीं हैं। अब पहली बार नपा का ध्यान इस ओर गया और अब सभी स्कूलों का नए सिरे से नामकरण पर विचार किया जा रहा और इन स्कूलों महापुरुषों के नाम से नामकरण किया जाएगा।

स्कूलों के यह हैं अटपटे नाम
शहर में स्कूलों की संख्या करीब 41 बताई गई है। यह स्कूल वर्तमान तोपपुरा, पेढ़ी स्कूल, बरईपुरा, रायपुरा, शेरपुरा, जतरापुरा, स्टेशन एरिया, पीतलमिल, खरीफाटक, अनिवार्य तोपपुरा, उर्दू चौपड़ा, लोहांगी, सूवात लाइन, माधवगंज क्रमांक-1, माधवगंज क्रमांक-2 आदि के नाम से पहचाने जाते हैं। इन स्कूलों में विद्यार्थियों की अंक सूची भी इसी नाम से मिलती है। सिर्फ शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या शाला एवं टैगोर शाला है जो महापुरुषों के नाम पर हैं।

अब यह होंगे नाम
इन सभी स्कूलों का नाम महापुरुषों पर होंगे। इसमें भगतसिंह, चंद्रशेखर आजाद, स्वामी विवेकानंद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, विनोवा भावे, महात्मा गांधी, रामकृष्ण परमहंस, लालबहादुर शास्त्री सहित अन्य महापुरुषों, महासंतों, साहित्यकारों व विभिन्न क्षेत्रों में ख्यातिप्राप्त महान लोगों के नाम स्कूलों का नामकरण होगा।

शहर के सभी स्कूलों का नामकरण महापुरुषों के नाम से किया जाएगा। इससे स्कूलोंं को अपनी अलग पहचान मिलेगी। इसके लिए आगामी परिषद की बैठक में प्रस्ताव रखा जाएगा।
-मुकेश टंडन, अध्यक्ष नपा

Krishna singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned