शादी का सीजन शुरू होते ही विदिशा जिले में धारा 144 लागू...

शादी में कितने लोग बुलाओगे, यह थाने में लिखकर देना होगा

By: govind saxena

Published: 24 Nov 2020, 10:04 PM IST

विदिशा. बुधवार को देवउठनी ग्यारस के साथ ही शादी-विवाह के आयोजन भी शुरू हो जाएंगे। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण का खतरा और सरकार की गाइड लाइन का बंधन शादी समारोहों पर साफ दिखाई देगा। कलेक्टर ने इसके लिए जिले में धारा 144 लगाते हुए खास गाइडलाइन भी जारी कर दी है। जहां कई लोग खुद सतर्कता बरत रहे हैं, वही प्रशासन ने यह भी तय कर दिया है कि बंद हॉल में अधिकतम 100 और खुले मैरिज गार्डन में अधिकतम 200 लोगों को ही शादी समारोह में बुलाया जा सकेगा। इसके साथ ही आयोजन से पूर्व थाने में यह लिखित में देना होगा कि आप विवाहोत्सव में कितने लोगों को आमंत्रित कर रहे हो। बारात में भी अधिकतम 50 लोगों को वो भी मास्क लगाने पर शामिल होने की अनुमति है। यह भी कहा गया है कि शादी समारोह हर स्थिति में रात 10 बजे खत्म करना होंगे।



थाने को बताना होगी रूपरेखा
सांस्कृतिक, सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रमों में आयोजनकर्ता बंद हाल में अधिकतम 100 और खुले गार्डन में अधिकतम 200 लोगों को ही बुला सकेंगे। इन आयोजनों में अलग से अनुमति लेने की जरूरत नहीं होगी, लेकिन आयोजकों को कार्यक्रम की रूपरेखा और आमंत्रित सदस्यों की संख्या बताते हुए संबंधित थाने में लिखित सूचना देकर पावती प्राप्त करना होगी। इसी पावती के आधार पर आयोजन स्थल के स्वामी, टेेंट संचालक, केटर्स आदि अपनी सेवाएं दे सकेंगे। इन आयोजनों में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य होगा।

बारात में सिर्फ 50 बाराती वो भी मास्कधारी
कलेक्टर ने अपने आदेश में लिखा है कि बारात को छोडकऱ सभी प्रकार की रैलियां, यात्राएं और जुलूस निकालना पूरी तरह प्रतिबंधित होगा। शादी समारोह में सिर्फ 50 बारातियों तक की बारात निकाली जा सकेगी। इस संख्या में लाइट, बैंड वालों को भी शामिल माना जाएगा। सभी का मास्क लगाना अनिवार्य होगा।

बैंड बाजा, डीजे 9.30 बजे तक
कलेक्टर ने कहा है कि डीजे और बैंड बाजों का उपयोग आयोजनकर्ता के द्वारा सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन करते हुए रात 9.30 बजे तक ही किया जा सकेगा।

रात 10 बजे के बाद शादी भी नहीं
कलेक्टर ने अपने आदेश में कहा है कि जिले में रात्रिकालीन कफ्र्य लागू है। यह कफ्र्यू रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक है, (यह कफ्र्यू उद्योगों पर लागू नहीं है)। शादी, विवाह और बारात संबंधी आयोजन रात 10 बजे तक ही आयोजित किए जा सकेंगे। रात 10 बजे के बाद ऐसे सभी आयोजन बंद करना आयोजनकर्ता, आयोजन स्थल के मालिक, टेंट संचालक और केटरर्स के लिए अनिवार्य होगा।

अन्य उत्सवों में 20 लोगों से ज्यादा नहीं
कलेक्टर के आदेश में कहा गया है कि सभी प्रकार के मिलन समारोह, सम्मान समारोह, पिकनिक स्थल, फार्म हाउस पर शादी की सालगिरह, जन्मदिन के आयोजन में आगामी आदेश तक 20 लोगों से ज्यादा शामिल नहीं किए जाएंगे।


मास्क न पहनने पर सौ रूपए जुर्माना
मास्क नहीं पहनने पर सौ रूपए तथा विभिन्न दुकानों और व्यावसायिक संस्थानों पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन न करने पर 500 रूपए का जुर्माना किया जा सकेगा। कोविड प्रोटोकॉल का पालन न करने वाले प्रतिष्ठान दो घंटे के लिए बंद भी कराए जा सकेंगे।

शादी कार्ड में अलग-अलग समय की सील लगाई

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियानके अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक खजान सिंह ने अपने पुत्र की शादी के लिए जो आमंत्रण पत्र छपवाए हैं उनमें समय की जगह खाली छोड़ी है। आयोजन स्थल पर भीड़ न हो, इसलिए उन्होंने कार्ड में अलग-अलग समय की सील बनवाकर लगाई है। यह भी कहा गया है कि नियत समय पर ही आएं, ताकि दूसरों के समय भीड़ न हो। उन्होंने कार्ड में दो गज की दूरी, मास्क पहनना भी जरूरी और समय का विशेष ध्यान रखें की बातें भी स्पष्ट लिख रखी हैं।

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned