किसानों की भीड़ देख रामलीला मैदान में ट्रक खड़ा कर किसानों को वितरित की यूरिया

यूरिया के लिए सुबह सात बजे से पहुंच गए थे किसान वेयरहाउस
सुबह सात बजे लगी रैक, एक रैक आएगी कल

विदिशा। रामलीला स्थित वेयरहाउस पर सोमवार की सुबह सात बजे से ही आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के किसान पहुंचने लगे थे। सुबह 10 बजे तक यहां सैकड़ों की संख्या में किसान मौजूद थे। कुछ किसान तो रायसेन जिले के भी नजर आए। वेयरहाउस खुला तो वेयरहाउस में यूरिया नहीं होने की सूचना पर किसान मायूस नजर आए। लेकिन सभी को टोकन दे दिए गए और करीब साढ़े ग्यारह बजे जैसे ही यूरिया से भरा ट्रक आया, तो किसानों की भीड़ देखते हुए ट्रक रामलीला परिसर में खड़ा कर यूरिया की बोरियां किसानों को वितरित करवाई गईं। प्रशासन के अनुसार अब पर्याप्त यूरिया किसानों को मिल सकेगा।

इमलिया से आए किसान हेमंत सिंह ने बताया कि वे यूरिया की किल्लत के चलते वे गांव से सुबह साढ़े सात बजे ही वेयरहाउस आ गए थे, लेकिन सुबह 10 बजे वेयरहाउस खुला तो वेयरहाउस में यूरिया नहीं होने की बात कही गई। साथ ही यह भी कहा गया कि यूरिया की रैक लग गई है और जल्द मिलेगा। सुबह से ही इस वेयरहाउस पर करीब ३०० से अधिक किसान पहुंच गए थे।

१० बजे जैसे ही वेयरहाउस खुला तो किसान गेट की तरफ दौड़ पड़े। केंद्र प्रभारी घनश्याम मालवीय ने सभी को कतार में खड़े कर टोकन दिए। इस दौरान ३०० किसानों को टोकन वितरित किए गए। टोकन लेने के लिए किसान धक्का-मुक्की करते देखे गए और विवाद की स्थिति बनी। इस दौरान रायसेन जिले से आए किसानों को यूरिया देने से साफ मना कर दिया गया, इस कारण उन्हें खाली हाथ वापस होना पड़ा।

यूरिया के ट्रक देख खुश हुए किसान
जैसे ही वेयरहाउस पर करीब साढ़े ग्यारह बजे यूरिया का ट्रक पहुंचा तो किसानों के चेहरे खिले नजर आए। ट्रक को रामलीला परिसर में खड़ा करवा दिया गया और टोकन के आधार पर एक-एक किसान को तीन-तीन बोरी यूरिया देना शुरु किया गया। यह सिलसिला देर शाम तक चलता रहा। इसके बाद दो यूरिया से भरे दो और ट्रक वेयरहाउस पहुंचे।

किसान बने वालेंटियर
वेयरहाउस पर सोमवार को व्यवस्थाएं संभालने के लिए पुलिस, राजस्व या कृषि अधिकारियों की टीम की जगह वालेंटियर बने कुछ किसान मौजूद थे। स्वयं किसान ही व्यवस्वेच्छा से वालेंटियर बने और अन्य किसानों को यूरिया बंटवाने में मदद की। यह वालेंटियर किसान ही अन्य किसानों से टोकन लेने के बाद उनकी ऋणपुस्तिक लेकर एंट्री आदि का कार्य करवाने में सहयोग कर रहे थे। इसके बाद इनके ही मार्गदर्शन में अन्य किसानों को यूरिया वितरित की जा रही थी। प्रत्येक वालेंटियर किसान इसकी बकायदा स्लिप भी अपनी शर्ट के पॉकेट पर लगाए हुआ था। हालांकि ट्रक के पास पुलिस जवान भी बाद में पहुंच गए थे।

कल लगेगी एक और रैक
विपणन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में कुल ४० हजार मीट्रिक यूरिया की मांग थी। सोमवार की सुबह सात बजे एक रैक आ गई थी। इस प्रकार अब तक ३२ हजार मीट्रिक यूरिया आ चुकी है। वहीं कल बुधवार को एक रैक और लग रही है। इस प्रकार अब किसानों को पर्याप्त यूरिया दिए जाने की बात प्रशासनिक अधिकारी कर रहे हैं। वहीं सोमवार की दोपहर रामलीला रोड स्थित इफको बाजार से भी किसानों को यूरिया वितरित किया गया। इसके साथ ही सोमवार की शाम तक जिलेभर की अधिकांश सोसायटियों पर भी यूरिया पहुंचाकर वितरित करवाई गई।

इनका कहना है
वेयरहाउस में 90 टन यूरिया आ गया है। जिसमें से 45 टन यूरिया 300 किसानों को सोमवार को वितरित किया गया। शेष मंगलवार को दिया जाएगा। अब यूरिया की कोई किल्लत किसानों को नहीं होगी।
- घनश्याम मालवीय, केंद्र प्रभारी, रामलीला वेयरहाउस, विदिशा


जिले में कुल 40 हजार मीट्रिक टन यूरिया की मांग थी, 32 हजार मीट्रिक टन से ज्यादा यूरिया आ चुकी है। बुधवार को फिर रैक लगेगी और 3100 मीट्रिक टन यूरिया आ जाएगी। फिर दो रैक और जल्द लगेंगीं। इस प्रकार अब किसानों को यूरिया के लिए बिलकुल परेशान नहीं होना पड़ेगा और पर्याप्त यूरिया मिल जाएगा।
- विनोद उपाध्याय, जिला विपणन अधिकारी, विदिशा

Show More
Anil kumar soni Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned