अब विद्यार्थियों के लिए खुलेगा 100 सीटर हॉस्टल

chandan singh rajput

Publish: Apr, 17 2018 11:51:13 AM (IST)

Vidisha, Madhya Pradesh, India
अब विद्यार्थियों के लिए खुलेगा 100 सीटर हॉस्टल

पत्र जारी कर मांगी जा रही विद्यार्थियों की सूची

विदिशा. राज्य शिक्षा केंद्र के निर्देश पर जिले के अनाथ, बेसहारा और शिक्षा की मुख्यधारा से वंचित बच्चों को शिक्षित करने के लिए जिले में एक १०० सीटर हॉस्टल जल्द खुलने वाला है। इसमें दाखिला दिलाने के लिए ऐसे बच्चों की सूची सभी स्कूल से डीपीसी द्वारा पत्र जारी कर मांगी गई है। सूची आने के बाद हॉस्टल में प्रवेश की प्रक्रिया शुरु हो जाएगी।

 

मालूम हो कि रेलवे स्टेशन, बसस्टैंड, झुग्गी झोपड़ी आदि क्षेत्रों में रहने वाले अधिकतर बच्चे तथा खदान आदि में कार्य करने वाले मजदूरों के बच्चे स्कूल तक नहीं पहुंच पाते हैं। ऐसे में वे पढ़ाई से वंचित रह जाते हैं। इसलिए सरकार ने ऐसे बच्चों को भी शिक्षा की मुख्यधारा से जोडऩे का निर्णय लिया है। जिसके चलते प्रदेश के प्रत्येक जिले में १०० सीटर हॉस्टल बनाए जा रहे हैं। इनमें कक्षा ऐसे लेकर आठ तक के सभी जाति वर्ग के बच्चे रहेंगे और स्कूल जाकर पढ़ाई करेंगे। हॉस्टल में बच्चों के रहने, खाने आदि का पूरा खर्चा सरकार उठाएगी।

एपीसी सौदानसिंह सूर्यवंशी ने बताया कि सभी बीआरसी को पत्र जारी कर जनशिक्षकों और स्कूल प्रधानाध्यापकों के माध्यम से ऐसे बच्चों की सूची मांगी है, जो उनके क्षेत्र में स्कूल नहीं जाते हैं या किन्ही कारणों से पढ़ाई छोड़ दी है। इसके साथक ही अनाथ, बेसहारा बच्चों की जानकारी मंगाई है। वहीं स्कूल में २० प्रतिशत उपस्थिति वाले बच्चों को भी इस हॉस्टल में प्रवेश दिया जाएगा। हॉस्टल की विशेषता यह रहेगी कि इसमें कक्षा एक से आठ तक के हर वर्ग यानि एससी, एसटी, ओबीसी और सामान्य वर्ग के छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा।

पहले भी हुए थे प्रयास

दो वर्ष पूर्व भी तात्कालीन एसडीएम आरपी अहिरवार के प्रयासों से सिविल लाइंस स्थित प्राथमिक स्कूल में ऐसे बच्चों को शिक्षा मुहैया कराने के इंतजाम किए गए थे। इसके लिए इस स्कूल में ही बारिश के दौरान उनके ठहरने और पढऩे के इंतजाम किए गए थे। लेकिन एसडीएम स्थानांतरण होने के बाद यह व्यवस्था शिथिल हो गई थी।

इनका कहना है

अनाथ, बेसहारा और शिक्षा से वंचित बच्चों को शिक्षित कराने के लिए सर्वे कार्य चल रहा है। इसके बाद इन्हें पुलिस लाइंस स्थित १०० सीटर हास्टल में दाखिला दिलाया जाएगा। जिससे इनकी पढ़ाई नियमित हो सके।

सुरेश खांडेकर, डीपीसी, विदिशा

Ad Block is Banned