सावन के साथ आए मेघों का चौतरफा शोर

नटेरन के पमारिया गांव से 76 लोगों को रेस्क्यू किया, विदिशा-अशोकनगर मार्ग बंद

By: govind saxena

Published: 25 Jul 2021, 10:22 PM IST

विदिशा/नटेरन. आषाढ़ लगभग सूखा बीतने के बाद अब सावन शुरू होते ही जिले में चौतरफा बादलों का शोर शुरू हो गया है। जिले में 24 घंटे में 97.4 मिमी औसत बारिश हुई, शमशाबाद तहसील में सर्वाधिक 190.6 मिमी और नटेरन में 140 मिमी बारिश हुई है। नटेरन में चार जगह से संजय सागर बांध की मुख्य नहर फूट जाने से सैंकड़ों खेतों में पानी भर गया। कर्पूना, सहोदरा, सगड़ और बाह नदियां उफनने से विदिशा-अशोकनगर मार्ग सहित नटेरन, शमशाबाद और बासौदा के रास्ते बंद हो गए। कई घरों में पानी भर गया। पमारिया के एक मोहल्ले में पानी से घिरे 76 लोगों को प्रशासन और होमगार्ड की टीम ने रेस्क्यू कर निकाला। शाम तक नटेरन के तीन गांव पूरी तरह पानी से घिरे थे। कागपुर के पास बाह नदी का पानी पुल से 12 फीट ऊपर बह रहा था, जबकि करारिया चौराहे के पास सहोदरा नदी 5 फीट और जोहद पुल पर सहोदरा नदी पुल से 7 फीट ऊपर बह रही थी।


विदिशा में शनिवार के बाद रविवार को भी दिन भर बारिश का दौर जारी रहा। लेकिन ये बारिश बहुत ज्यादा तेज नहीं होने से जमीन के लिए फायदेमंद रहा। दिन और रात भर रह रहकर बारिश होती रही। वहीं नटेरन क्षेत्र में चौतरफा पानी ही पानी दिखाई दे रहा था। कागपुर की बाह नदी पुल पर बहने से विदिशा-अशोकनगर मार्ग पूरी तरह बंद हो गया। पमारिया में कपूरणा नदी के पुल पर आने से रास्ते बंद हो गए। जोहद के पास नदी उफनने से विदिशा-बासौदा मार्ग बंद रहा। नटेरन की सडक़ों पर चौतरफा पानी भरा दिख रहा था। नटेरन के चौतरफा रास्ते बंद हो गए थे। पानी का बहाव इतना तेज था कि सडक़ किनारे खड़ा पानी का टेंकर पानी में बह गया जो बाद में बिजली के खंबों से टकराकर रुका।

ये रास्ते हुए बंद...
विदिशा से अशोकनगर, विदिशा से बासौदा, नटेरन, शमशाबाद के रास्ते बंद हो गए। नटेरन के बरबटपुरा मोहल्ले में सुबह पुलिया का पानी ऊपर जाने से पूरी बस्ती का संपर्क टूट गया। इस पुलिया के कारण नटेरन से सेऊ, पमारिया के रास्ते बंद हो गए। नटेरन के पास फगवाई नाला उफनने से नटेरन से खैराई, मूडरी, निपानिया, मूडरा के रास्ते बंद हो गए। इसी तरह भदभदा नाला उफनने से नटेरन से चमराहा, खाईखेड़ा, रावन आदि ग्रामों के रास्ते भी बंद रहे।


वर्जन...
भारी बारिश से कई गांव में पानी भरा है। पमारिया के 15-20 घरों को पानी से घिरने के बाद वहां से 76 लोगों को रेस्क्यू कर निकाला है। संजय सागर बांध के गेट बंद कर दिए गए थे, लेकिन इसकी मुख्य नहर चार जगह से टूट गई है। रावन, बमूरी और खाईखेड़ा गांव अभी भी चौतरफा कटे हुए हैं। रेस्क्यू कार्य जारी है।
-प्रवीण प्रजापति, एसडीएम नटेरन

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned