scriptThe war of independence was woven in Ramkuti itself | रामकुटी में ही बुना जाता था आजादी की लड़ाई का ताना-बाना | Patrika News

रामकुटी में ही बुना जाता था आजादी की लड़ाई का ताना-बाना

यही है वह रामकुटी जहां तय होती थीं आंदोलन की रणनीति

विदिशा

Updated: August 14, 2021 09:12:42 pm

विदिशा. शहर के मुख्य बाजार में निकासा के आगे पुरानी सी खड़ी यह इमारत 1912 से यूं ही खड़ी है। अब यहां नीचे उपभोक्ता भंडार है, लेकिन 1936 से 1947 तक यह इमारत आजादी की लड़ाई में सबसे महत्वपूर्ण स्थान रखती थी। यही वह इमारत थी, जिसमें बाबू रामसहाय के बुलावे पर मध्यभारत के तमाम बड़े आंदोलनकारी एकत्रित होते थे और आजादी की लड़ाई का तानाबाना बुना जाता था। देश में अंगे्रेजों की हुकूमत थी और ग्वालियर में सिंधिया रियासत का कामकाज अंग्रेजों की देखरेख में ही चलता था। विदिशा भी ग्वालियर रियासत का ही हिस्सा था और ऐसे में यहां के लोगों ने आजादी की लड़ाई के लिए प्रजामंडल और सार्वजनिक सभा के रूप में समितियां बनाकर अपनी रणनीतियां तय कीं और उन्हें आंदोलन के रूप में चलाया।
रामकुटी में ही बुना जाता था आजादी की लड़ाई का ताना-बाना
रामकुटी में ही बुना जाता था आजादी की लड़ाई का ताना-बाना

1942 में अंग्रेजो भारत छोड़ो आंदोलन जब ग्वालियर राज्य में शुरू हुआ तो उसका सूत्रपात इसी इमारत में हुआ जिसे रामकुटी कहा जाता है। इस आंदोलन की रूपरेखा बनाने के लिए रामकुटी में ही राज्य के सारे जिला प्रतिनिधियों को बाबू रामसहाय ने बुलाया था और यहीं की हॉल में बैठक हुई थी। तब बाबू रामसहाय को अपने भाइयों सहित जेल जाना पड़ा था। इसके बाद से ही पूरे मध्यभारत में भारत छोड़ो आंदोलन ने जोर पकड़ लिया था और आजादी के लिए दिलों में आग भडक़ उठी थी। यह आंदोलन जोर पकड़ा और जगह-जगह आंदोलन शुरू हो गए थे। आंदोलन को दबाने के लिए खूब गिरफ्तारियां हुईं और विदिशा के स्वतंत्रता सेनानियों को भी जेल में डाल दिया गया।

विदिशा के शिलालेख पर दर्ज हैं ये 18 नाम
विदिशा ब्लॉक के 18 स्वतंत्रता सेनानियों के नाम अब भी उत्कृष्ट विद्यालय परिसर में लगे एक स्तंभ पर अंकित हैं। इनमें खुशीलाल ब्राम्हण, रघुवीरचरण शर्मा, कमल सिंह ठाकुर, सखाराम निगुडकऱ, बलवंत सिंह ठाकुर, अयोध्याप्रसाद शर्मा, सुन्नूलाल, बच्चूलाल, धन्नालाल जैन, कामताप्रसाद सक्सेना, दत्तात्रय कृष्णराव सरवटे, राजमल जालौरी, व्यंकटेश नारायण शेवड़े, बाबूलाल शर्मा, बाबू रामसहाय सक्सेना, धनराज माहेश्वरी, बाबूलाल गुप्ता तथा पं. कृष्णानंद मिश्र शामिल हैं।

इनके नाम भी स्वतंत्रता आंदोलन में प्रमुख
इतिहासकार गोविंद देवलिया के अनुसार विदिशा से स्वतंत्रता की लड़ाई में बाबू तख्तमल जैन ने भी पूरा सहयोग किया, लेकिन वे ग्वालियर स्टेट के मंत्रीमंडल में शामिल थे, इसलिए खुलकर मैदान में नहीं आए, लेकिन अंदर से उन्होंने इस आग को खूब हवा दी। इसके अलावा डीडी दातार, शिवलाल, कृष्णलाल गुप्ता, रामसिंह ठाकुर, बिहारी लाल शर्मा, दामोदर सोले, लक्ष्मीबाई गुप्ता, मिश्रीलाल अग्निहोत्री, बारेलाल, छोटेलाल झा, कंछेदीलाल ढीमर, रामरतन पहलवान, राजाराम देसाई, रामचरणलाल, प्रीतमसिंह, शरद पंडित, मदनदेवी नवले, जमुनादेवी राठी आदि ने भी आजादी की लड़ाई में बढ़चढकऱ हिस्सा लिया।

स्वतंत्रता सेनानियों में मिसाल हैं रघुवीरचरण शर्मा
उम्र के शतक के करीब रघुवीर चरण शर्मा नगर के ऐसे स्वतंत्रता सेनानी हैं जिन्होंने अपनी युवा अवस्था में देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी और अब आजाद भारत में समाजसेवा और महापुरुषों और क्रांतिकारियों की याद को चिरस्थाई बनाए रखने के लिए अपनी सम्मान निधि का बड़ा हिस्सा दान कर रहे हैं। अब तक वे 25 लाख रुपए से अधिक की राशि दान कर विदिशा में शहीद ज्योति स्तंभ, विवेकानंद, रानी लक्ष्मीबाई, सुभाषचंद्र बोस और चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमाएं स्थापित करा चुके हैं। उन्होंने हिन्दी भवन के लिए 10 लाख रुपए दान किए हैं, कन्या महाविद्यालय में कई कार्यों के लिए उन्होंने राशि दी है। वे कहते हैं कि मेरा क्या है। देश का पैसा है, देश के लिए ही लगे तो बेहतर है। जीवन के अंतिम पड़ाव में अब उनका शरीर साथ नहीं देता लेकिन फिर भी राष्ट्रहित और महापुरुषों के नाम पर अब भी उनका जोश देखते ही बनता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.