उदयगिरी परिक्रमा में 700 से अधिक महिला और युवतियां हुई शामिल

पर्यावरण संरक्षण, सामाजिक समरसता आदि के लिए दो साल से निकाली जा रही परिक्रमा...

विदिशा। मप्र प्रांतीय पुजारी महासभा द्वारा रविवार को एकादशी पर निकाली गई उदयगिरी परिक्रमा यात्रा में करीब ७०० से अधिक महिला और युवतियां शामिल हुईं। मालूम हो कि पुजारी महासभा द्वारा पर्यावरण संरक्षण, सामाजिक समरसता, सद्भावना और विदिशा को पवित्र नगरी घोषित कराने के लिए लगातार दो साल से शुक्ल पक्ष की एकादशी को यह यात्रा निकाली जा रही है।

बालाजी मंदिर पर सुबह पुजारी महासभा के पुजारी और पंडितों के साथ ही बड़ी संख्या में महिला, युवतियां और श्रद्धालु एकत्रित हुए और भजन-कीर्तन करते हुए उदयगिरी परिक्रमा शुरु की।

यह परिक्रमा मंदिर से शुरु होकर रामघाट, महल घाट, बहराबाबा घाट, चरणतीर्थ, सुनपुरा होते हुए उदयगिरी पहुंची और परिक्रमा करते हुए वापस चरणतीर्थ, रामलीला चौराहा, बजरिया, बड़ाबाजार होते हुए वापस बालाजी मंदिर पहुंचीं। इस दौरान करीब 17 किमी की दूरी तय की गई। शाम करीब छह बजे परिक्रमा का समापन हुआ। इस दौरान रास्ते में श्रद्धालु ढोलक, हारमोनियम, झांझर आदि के साथ भजन करते हुए चल रहे थे।

रास्ते में कई श्रद्धालु भजनों की धुनों पर नाचते-गाते नजर आए। इस दौरान मप्र प्रांतीय पुजारी महासभा के अध्यक्ष पंडित संजय पुरोहित, तहसीलदार आशुतोष शर्मा, अर्चना शर्मा, शीतल पुरोहित, सीमा शर्मा, संजना, भारतीय दीक्षित, संध्या शर्मा, ज्योति शर्मा, रेखा दुबे, साधना पारासर, रिंकी कुशवाह, सावित्री कुशवाह, रश्मि शर्मा, भाजपा नेता संदीप डोंगरसिंह, प्रकाश जोशी, मदनसिंह यादव, जितेंद्र पारासर, राजेंद्र, विजय दीक्षित आदि मौजूद रहे।

विदिशा को कराना है तीर्थ नगरी घोषित
मप्र प्रांतीय पुजारी महासभा के अध्यक्ष पंडित संजय पुरोहित ने बताया कि विदिशा में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल होने के साथ ही कई पुरा धरोहर यहां बिखरी पड़ी है। जिलेभर में एक से बढ़कर एक अद्धितीय मंदिर हैं, जो देशभर में कहीं नहीं पाए जाते। इसलिए विदिशा को तीर्थ नगरी घोषित होना चाहिए।

जिसके लिए वे लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसी कड़ी में यह उदयगिरी परिक्रमा शुरु की गई थी। वहीं इस परिक्रमा का उद्देश्य लोगों में एतिहासिक धरोहरों के प्रति जागरूकता लाने, पर्यावरण संरक्षण की लोगों में अलख जगाने वहीं सामाजिक समरसता आदि बनाए रखने का प्रयास किया जा रहा है।

इन सब के प्रति लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है। जिसमें जिला प्रशासन, स्थानीय जनप्रतिनिधी, विभिन्न सामाजिक संगठन और आम नागरिक बराबर सहयोग कर रहे हैं और प्रत्येक उदयगिरी परिक्रमा पर लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही है। रविवार को करीब ७०० से अधिक महिला और युवतियों के साथ ही करीब 1 हजार श्रद्धालु मौजूद रहे।

Anil kumar soni
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned