स्तनपान और मासिक धर्म मेें भी वैक्सीनेशन सुरक्षित- डॉ. शर्मा

डॉ. पार्वती शर्मा, प्रसूति एवं स्त्रीरोग विशेषज्ञ

By: govind saxena

Updated: 20 May 2021, 10:35 PM IST

विदिशा. कोरोना महामारी से लडऩे के लिए वैक्सीनेशन बहुत जरूरी है। यह वैक्सीनेशन का समय है, पूरे देश में अभियान चल रहा है, लेकिन कुछ महिलाओं में ये भ्रांति है कि मासिक धर्म के दौरान या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को वैक्सीन लगवाना उचित नहीं। इन भ्रांतियों का समाधान करते हुए अटल बिहारी वाजपेयी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय की प्रसूती एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. पार्वती शर्मा ने कहा है कि मासिक धर्म और स्तनपान कराने वाली महिलाओं में वैक्सीनेशन का कोई विपरीत असर नहीं पड़ता है। जानिए क्या कहती हैं डॉ. शर्मा।


कोविड वैक्सीन को लेकर महिलाओं में बहुत सारी भ्रांतियां हैं, जैसे कि मासिक धर्म में कोविड वैक्सीन लगवाने से मासिक धर्म ठीक से नहीं होगा, रक्तस्त्राव अधिक होगा, कोविड संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ जाएगा और मासिक धर्म के 5 दिन पहले तथा 5 दिन बाद तक वैक्सीन नहीं लगवानी है। ये सब अफवाहें सोशल मीडिया पर खूब चल रहे हैं, जो कि पूरी तरह गलत हैं। मासिक धर्म एक प्राकृतिक क्रिया है, जिस पर वैक्सीन का कोई गलत प्रभाव नहीं पड़ता है, इसलिए महिलाएं मासिक धर्म में भी वैक्सीनेशन करा सकती हैं।


इसी तरह बच्चों को स्तनपान कराने वाली महिलाओं में भी शंका है कि कहीं वैक्सीन लगवाने से उनको या दूध के जरिए बच्चों को संक्रमण नहीं हो जाए, जबकि वैक्सीन से महिला की तो कोविड से लडऩे की क्षमता बढ़ती ही है, साथ ही स्तनपान करते बच्चे को भी दूध के जरिए कोविड से लडऩे की एंटीबॉडीज मिलती हैं। डॉ. शर्मा बताती हैं कि भारत सरकार के परिवार कल्याण मंत्रालय ने भी स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए वैक्सीन का अनुमोदन किया है। गर्भवती महिलाओं में कोविड वैक्सीन को लेकर अभी कम अध्ययन हुआ है, भारत सरकार ने अभी तक गर्भवती महिलाओं में कोविड वैक्सीन को लेकर कोई गाइडलाइन नहीं दी है। लेकिन भारत के प्रसूति एवं स्त्रीरोग विभाग सोसायटी संघ के चिकित्सकों ने तो रिस्क एवं बेनिफिट को देखते हुए गर्भवती महिलाओं को भी वैक्सीन लगवाने की सलाह दी है।

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned