जाम ने रोकी लोगों की राह

जाम ने रोकी लोगों की राह

veerendra singh | Publish: Feb, 09 2016 11:08:00 PM (IST) Vidisha, Madhya Pradesh, India


गंजबासौदा.
शहर में हो रहे निर्माण कार्यो की धीमी रफ्तार का खामियाजा शहरवासी पिछले डेढ साल से भुगत रहे हैं। खासतौर पर शहर के मुख्य चौराहों और मुख्य सड़कों पर चल रहे निर्माण कार्य के चलते जगह-जगह पर जाम लग रहा है और लोग परेशान हो रहे हैं। जलावर्धन के काम और सड़क किनारे निजी टेलीकॉम कंपनी द्वारा ्रखुदाई की जा रही है। जिसके चलते शहर की तमाम सड़कें अब पूरी तरह से खुद चुकी हैं सड़कों की खुदाई के लिए नगर पालिका इजाजत तो दे देती है लेकिन मरम्मत करवाने में दिलचस्पी नहीं लेती है जिसके वजह से शहर के सभी चौराहों पर जाम के हालात बन रहे हैं।

जयस्तंभ से निकलना हुआ मुश्किल

शहर के सबसे व्यस्तम इलाके में शामिल जयस्तंभ पर निर्माण कार्य पिछले करीब एक महीने से चल रहा है। शहर के मुख्य चौराहों पर काम की धीमी रफ्तार के चलते यहां पर दिनभर जाम के हालात बने रहते हैं। खासतौर पर जब शहर के बड़े स्कूलों की छुट्टी होती है तब यहां पर वाहन घंटों फंसे रहते हैं। जिनको व्यवस्थित कराने के पुलिस बल तैनात नहीं रहता है।

और भी चौराहे हैं परेशानी का सबब

जानकारों की माने तो शहर के अधिकांश चौराहा तकनीकी रूप से व्यवस्थित नहीं हैं जिसके चलते इन चौराहों पर जाम के हालात ज्यादा बनते हैं। खासतौर पर चौराहों पर जो रोटरियां बनी हैं। वे ज्यादा बड़ी हैं जिसके चलते यहां से वाहन निकलते हैं और जाम में फंस जाते हैं। हालांकि शहर के नागरिक कई बार जो रोटरियां बड़ी हैं उन्हे छोटी कराने की मांग कर चुके हैं ताकि यातायात व्यवस्था दुरुस्त हो सके। जयस्तंभ और नेहरू चौक की रोटरी ज्यादा बड़ी है जिससे यहां पर सबसे ज्यादा जाम लगता है। इस मामले में एसडीओपी आरआर बंसल का कहना है कि शहर की यातायात व्यवस्था को सुधारने के लिए पुलिस बल पाइंटों पर तैनात किया गया है और नोएंट्री के जो आदेश हुए हैं उस आदेश का पूरी तरह से पालन कराया जा रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned