विदिशा के दो शिलान्यास समारोहों में आए थे प्रधानमंत्री पं. नेहरू

14 नवंबर विशेष

By: govind saxena

Published: 13 Nov 2020, 07:42 PM IST

विदिशा. ये उन दिनों की बात है जब देश में पहली बार अपने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री आसीन हुए थे। लेकिन देश के इन दिग्गजों को यह अहम नहीं था कि आयोजन बहुत बड़ा, भव्य और तामझाम वाला है या नहीं। वे कार्यक्रम की महत्ता देखकर अपने आने की स्वीकृति दे दिया करते थे। अन्यथा यह कैसे संभव था कि एक शिशु मंदिर की आधारशिला रखने देश के प्रधानमंत्री और उसका उद्घाटन करने देश के राष्ट्रपति आएं। लेकिन यह हमारी संस्कृति और पुराने नेताओं की दूरदर्शिता तथा सरलता ही थी जो अब दुर्लभ है। इसी तरह एसएटीआइ का शिलान्यास करने भी पं. नेहरू आए थे। दोनों जगह उनके द्वारा किए शिलान्यास के पत्थर आज भी उनकी याद दिलाते हैं। एसएटीआइ में पं. नेहरू की यादों को सहेजने के लिए मुख्य भवन के ठीक सामने उनकी आदमकद प्रतिमा भी लगवाई गई है, जिसके चारों ओर गुलाब वाटिका विकसित है।


पुराने अस्पताल के ठीक सामने आज भी बडज़ात्या शिशु मंदिर है, इस शिशु मंदिर की आधारशिला 30 नवंबर 1952 को प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू ने रखी थी। यह भी विशेष बात है कि जिस तरह आज कल एक छोटी सी सीमेंट कांक्रीट सड़क या चौराहे पर किसी प्रतिमा के शिलान्यास में भी दर्जनों नाम अंकित किए जाते हैं, वहीं शिशु मंदिर के इस शिलान्यास पत्थर में सिर्फ प्रधानमंत्री का नाम दर्ज है। निवेदक के तौर पर जरूर बडज़ात्या शिशु मंदिर से जुड़़े दो नाम लिखे हैं जो गुलाबचंद बडज़ात्या और बसंतकुमार बडज़ात्या के हैं। शिलालेख पर किसी मुख्यमंत्री, मंत्री, सांसद, विधायक, नगर पालिका अध्यक्ष तक का नाम नहीं है। यह उस समय के नेताओं और जनप्रतिनिधियों के बड़प्पन और सरलता की ही निशानी है।


इसी तरह प्रधानमंत्री पं. नेहरू ने विदिशा में इंजीनियरिंग के नए भवन का शिलान्यास 13 फरवरी 1962 को किया था। इस शिलान्यास का पत्थर भी आज अंदर मुख्य द्वार पर लगा हुआ है। इस आयोजन में पं. नेहरू के साथ बाबू तख्तमल जैन, बाबू रामसहाय भी मौजूद थे। बाद में पं. नेहरू के विदिशा और एसएटीआइ परिसर में आने की यादों को संजोने के लिए उनकी आदमकद प्रतिमा मुख्य द्वार के ठीक सामने लगाई गई और उसके आसपास गुलाब वाटिका विकसित की गई।

govind saxena Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned