जब 150 के बजाय 600 किसान पहुंचे तो पुलिस को बुलाना पड़ा

यूरिया वितरण में डर रहे कर्मचारी

विदिशा। जिले में यूरिया का वितरण का कार्य कर्मचारियों को डराने लगा है। रामलीला के पास स्थित विपणन के वेयर हाउस पर ऐसी ही स्थिति बनी। यहां एक दिन पूर्व यूरिया लेने से शेष रह गए 150 किसानों को जब दूसरे दिन बुलाया गया तो यहां करीब 600 किसान आ गए। ऐसे में वेयर हाउस का ताला खोलने में कर्मचारी डरते रहे ऒर पुलिस के आने के बाद ही ताला खुल पाया। इस वेयर हाउस पर यूरिया वितरण के दौरान अक्सर ऐसी ही स्थिति बन रही है।


प्रबंधक घनश्याम मालवीय ने बताया कि सैकड़ों किसानों के बीच टोकन प्राप्त 150 किसानों यूरिया का वितरण कर पाना मुश्किल था। सभी किसान यूरिया चाहते थे। स्थिति को देखते हुए अन्य सभी किसानों को आश्वस्त किया कि अभी सर्फ 150 किसानों को यूरिया वितरित करने की व्यवस्था है। रैक आ चुकी और कल आप सभी को यूरिया मिल जाएगा। इस बात पर किसान सहमत हो गए। इसके लिए किसानों ने अपनी किताबें भी जमा की और वापस लौटे।


यहां वेयर हाउस में यूरिया के इंतजार में खड़़े कस्बाखेड़ी निवासी कमलसिंह अहिरवार बताया कि वह 35 किलोमीटर दूर से आया है। तीन दिन से आ रहे और आने जाने में 300 रुपए खर्च हो चुके पर यूरिया आज भी नहीं मिली। इसी तरह बारेलाल का कहना है कि खाद मिलने की उम्मीद में एक दिन पूर्व टे्रक्टर-ट्राली लेकर आ गए थे। एक हजार रुपए खर्च हुए पर यूरिया नहीं मिली।


इन किसानों का कहना है कि सरकार की ऋण माफी योजना के कारण वे डिफाल्टर हो गए और अब उन्हें सोसायटी से खाद नहीं मिल पा रहा और इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। मालूम हो कि जिले में इस बार करीब 5 लाख 25 हजार हैक्टेयर में रबी की बोवनी हुई है। इसमें सर्वाधिक करीब 3 लाख हैक्टेयर रकबा गेहूं का है। इसके अलावा चना, मसूर आदि फसलें हैं। गेहूं का रकबा गत वर्ष की अपेक्षा 65 हजार हैक्टेयर बढ़ जाने से यूरिया की भी मांग बढ़ गई।


किसान नेताओं का कहना है कि यूरिया को लेकर प्रशासन की पूर्व तैयारी नहीं रही। शासकीय व निजी तौर पर यूरिया की आवश्यकता पर ध्यान नहीं दिया गया वहीं डिफाल्टर किसानों की संख्या और उन्हें यूरिया उपलब्ध कराने की तरफ भी नहीं सोचा गया। इन सभी स्थितियों के रहते किसानों को पर्याप्त यूरिया उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जिले मेें कई स्थानों पर हंगामें एवं प्रदर्शन के बाद बिना पुलिस की तैनाती के यूरिया का वितरण नहीं हो पा रहा है।

Show More
Bhupendra malviya
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned