10 वर्ष बाद फिर चलना शुरू हुई 100 साल पुरानी नायाब घड़ी

- 2011 के भूकंप के बाद बंद पड़ी थी सौ साल पुरानी घड़ी

By: विकास गुप्ता

Published: 16 Apr 2021, 02:41 PM IST

टोक्यो। जापान में एक सौ साल पुरानी घड़ी 10 साल तक अपने सही समय का इंतजार करती रही। भयंकर भूकंप से मची तबाही का यह घड़ी भी शिकार बनी। फरवरी 2021 में आया दूसरा भूकंप घड़ी को जीवन दान दे गया। 10 साल से बंद पड़ी घड़ी फिर चल पड़ी। दरअसल मार्च 2011 में जापान के उत्तर-पूर्वी तट पर भयंकर भूकंप आया था। इसके प्रभाव से सुनामी की लहरें उठी। आपदा ने 18 हजार से अधिक लोगों की जान ली थी।

घड़ी ने दिया दृढ़ संकल्प का मंत्र...
सकानो ने घड़ी ठीक होने की आशा छोड़ दी और उसे मठ में लगे रहने दिया। 13 फरवरी 2021 में क्षेत्र में दोबारा भूकंप आया। इसके बाद एक दिन सकानो ने घड़ी की टिकटिक दोबारा सुनी। घडी़ ठीक से काम कर रही थी। बंसुन का कहना है कि घड़ी के वाक्ये ने उन्हें दृढ़ संकल्प के साथ आगे बढऩे के लिए प्रेरित किया है।

जब मठ में घुसे पानी ने मचाई तबाही-
तट के नजदीक ही यमामोटो इलाके में एक बौद्ध मठ है। यहां ये 100 साल पुरानी विशाल घड़ी लगी हुई थी। २०११ के भूकंप के बाद आई सुनामी की लहरों का पानी मठ में घुस गया था। इससे सब कुछ तहस-नहस हो गया। केवल मठ के खंभे और छत ही बच पाई। जापान को आपदा से उबरने में लंबा समय लगा। हालात सुधरने पर मठ प्रमुख और घड़ी के मालिक, बंसुन सकानो (58) ने मलबे से घड़ी ढूंढ ली। उन्होंने घड़ी ठीक करने की काफी कोशिश की, लेकिन असफल रहे।

ये दो संभावनाएं आई सामने...
घड़ी निर्माता सेइको के एक प्रतिनिधि का मानना है कि 2011 के बाद घड़ी के पेंडुलम ने काम करना बंद कर दिया था, भूकंप के झटके से वह चलना शुरू हो गया। दूसरी संभावना यह है कि घड़ी के अंदर जमी धूल हट गई हो।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned