38 साल बाद फेसबुक के 'FRIEND SUGGESTION ' फीचर से ढूंढा पिता को

अक्सर विदेशों में गोद लिए हुए बच्चे युवा होने पर अपने बायोलॉजिकल माता-पिता को ढूंढते हैं, कैरेन हैरिस की कहानी भी इसी खोज का एक सुखद पहलू है।

Mohmad Imran

15 Feb 2020, 10:14 PM IST

विदेशों में बच्चों को गोद लेना आम बात है। वहां इसकी प्रक्रिया भी बहुत सरल है। लेकिन गोद लिए हुए बच्चे युवा होने पर अपने असली माता-पिता को ढूंढने का भी प्रयास करते हैं। तकनीकी भाषा में ऐसे माता-पिता को 'बायोलॉजिकल पैरेंट्स' (Biological Parents) कहते हैं। इंग्लैंड के कॉर्नवॉल निवासी कैरेन हैरिस भी ऐसे ही बच्चों में शुमार थीं जिन्हें किसी और दंपत्ति ने गोद ले लिया था। जब वे 18 साल की हो गईं तो उन्होंने अपने जैविक माता-पिता को खोजने का बहुत प्रयास किया लेकिन उन्हें सफलता हाथ नहीं लगी।

38 साल बाद फेसबुक के 'FRIEND SUGGESTION ' फीचर से ढूंढा पिता को

पिता का नाम ही याद था
हालांकि कैरेन को अपने जैविक पिता का नाम पता था। लेकिन दक्षिण लंदन के क्रॉयडन के ट्रेवर सिंडेन के लिए उनकी सभी ऑनलाइन खोजबीन से कुछ भी हाथ नहीं लगा।इसी खोजबीन के दौरान उसे यह भी पता चला कि उसके जैविक माता-पिता ने बिना शादी के किशोरावस्था में उसे 1960 के दशक में जन्म दिया था। लोक लाज के डर से उन्होंने उसे अनाथालय को गोद दे दिया था।


फेसबुक ने मिलाया
अपने बच्चों के बड़ा होने के बाद एक बार फिर कैरेन ने माता-पिता की खोज शुरू की। लेकिन 38 साल की लगातार खोजबीन के बाद कुछ भी पता न चलने के कारण उन्होंने उन्हें ढूंढ लेने की उम्मीद छोड़ दी थी। हालांकि किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। एक दिन जब वे facebook पर फ्रेंड सजेशन फीचर को स्क्रॉल कर रही थीं तब उन्हें सुझाए गए दोस्तों की सूची में ट्रेवर सिंडेन नाम के एक व्यक्ति को भी देखा। केंट निवासी सेवानिवृत्त 72 वर्षीय इलेक्ट्रीशियन की शक्ल कैरेन से काफी मिलती-जुलती थी। इसलिए कैरेन ने इस व्यक्ति की फोटो गैलरी को देखना शुरू किया। १1960 के दशक की तस्वीरों को देखने के बाद कैरेन को यह विश्वास हो गया था कि वह अपने पिता का ही चेहरा देख रही थी। कैरेन ने उनमें से एक फोटो पर कमेंट कर उक्त व्यक्ति को सूचित कर दिया।

38 साल बाद फेसबुक के 'FRIEND SUGGESTION ' फीचर से ढूंढा पिता को

पिता ने भी पहचान लिया
ट्रेवर ने जब वह कमेंट पढ़ा तो उन्हें याद आ गया कि उनके एक बेटी थी जिसे वे कभी अपना नहीं सके थे। लेकिन बाद के सालों में उन्हें कभी उस बेटी की कोई जानकारी नहीं मिल सकी। कुछ हफ्तों तक बातचीत करने के बाद ट्रेवर और कैरेन ने बीते साल नवंबर में मिलने का फैसला किया। दोनों उसी जगह मिले जहां कभी ट्रेवर कैरेन की मां के साथ जवानी के दिनों में घूमने आते थे। दोनों ने मिलने पर एक-दूसरे को गौर से देखा। पुरानी बातों को याद किया और कैरेन की मां के बारे में बातें की। दोनों को ऐसा अहसास हुआ मानो वे कभी बिछड़े ही नहीं थे। उनकी कहानी जानने वाला हर व्यक्ति इस बात से खुश है कि 56 साल अलग रहने के बाद ही सही कैरेन अपने पिता से मिल सकीं और दोनों बहुत खुश हैं।

38 साल बाद फेसबुक के 'FRIEND SUGGESTION ' फीचर से ढूंढा पिता को
Mohmad Imran Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned