नहीं जानते होंगे आप! इंसान से शरीर में होता है दूसरा मस्तिष्क

आंत में रीढ़ की हड्डी से ज्यादा न्यूरॉन होते हैं और ये शरीर के केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से बिलकुल अलग काम करता है।

By: Priya Singh

Published: 28 Sep 2018, 01:07 PM IST

नई दिल्ली। क्या आपको इस बात का ज़रा भी अंदाज़ा है कि, इंसान के शरीर में दूसरा भी होता है। चौंक गए न? आपको जानकर हैरानी होगी कि, इंसानों के पास केवल एक ही मस्तिष्क नहीं होता उसके पास एक और अंग होता है जो वे जो करते हैं उसे नियंत्रित करने में मदद करता है। जानकारी के लिए बता दें कि, इंसान के शरीर में आंत को 'दूसरा मस्तिष्क' कहते हैं। आपको शायद जानकारी न हो लेकिन, आंत का जटिल काम हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। रहे होंगे कि इसके पीछे क्या ठोस कारण हो सकता है? इस घटना का एक कारण यह है कि आपका पेट और आपका दिमाग एक ही तंत्रिका से बनता है। दूसरा कारण यह है कि आपका पेट और आपका मस्तिष्क अभी भी कुछ विशेषताओं और तंत्रिकाओं को बरकरार रखता है, यह सच है! आंत में रीढ़ की हड्डी से ज्यादा न्यूरॉन होते हैं और ये शरीर के केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से बिलकुल अलग काम करता है। बता दें कि डॉक्टर लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि, क्या आंत की मदद से दिमागी बीमारी का इलाज किया जा सकता है या नहीं।

इस काम के लिए डॉक्टर कर रहे हैं अध्ययन...

डॉक्टर के इस अध्ययन के पीछे का मकसद यह है कि जिस तरह एक मंज़िल तक पहुंचने तक के लिए दो रास्ते अपनाए जा सकते हैं वैसे ही किसी एक बीमारी को दूर करने के लिए किसी और अंग की मदद ली जा सकती है। बता दें कि, आंत ही एक अकेला ऐसा अंग है जो बाकि अंगों से अलग काम करता है। जानकारों की मानें तो रोग-प्रतिरोधक प्रणाली की 70 फीसदी कोशिकाएं आंत में होती हैं। एक ताजा शोध में एक बात सामने आई है कि, अगर व्यक्ति को आंत से जुड़ी कोई परेशानी है तो वह सामान्य बिमारियों जैसे फ्लू का शिकार आसानी से हो जाता है।

Show More
Priya Singh Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned