इस मीनार में भाई-बहन का एक साथ जाना है सख्त मना, वजह जान उड़ जाएंगे होश

इस मीनार में भाई-बहन का एक साथ जाना है सख्त मना, वजह जान उड़ जाएंगे होश

Soma Roy | Publish: Feb, 08 2019 03:54:23 PM (IST) अजब गजब

इस मंदिर का नाम लंका मीनार है। इसका निर्माण रामलीला नाटक में किरदार निभाने वाले एक शख्स ने करवाया था

नई दिल्ली। यूं तो देश में कई प्रसिद्ध मंदिर है और कई जगह मंदिरों का निर्माण मीनार के रूप में भी किया गया है, लेकिन यूपी में इस स्थित एक मीनार बहुत ही दिलचस्प है। यहां भाई-बहन का एक साथ दर्शन करना सख्त मना है। तो क्या है इसकी वजह आइए जानते हैं।

यह मीनार यूपी के जालौन में स्थित है। जिसका नाम लंका मीनार है। इसकी ऊंचाई लगभग 210 फीट है। पूरे मंदिर में रावण और उसमें परिवार के लोगों का चित्र बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण मथुरा प्रसाद ने करवाया था।

बताया जाता है कि इस मंदिर के निर्माता मथुरा प्रसाद पहले रामलीला में काम करते थे। उन्होंने कई सालों तक रावण का किरदार निभाया है। उन्होंने अपनी कला को जीवित रखने और रावण की याद में इस मंदिर का निर्माण सन् 1875 में करवाया था।

ये मीनार देखने में जितना आकर्षक है उतना ही इसके किस्से भी मशहूर है। कहा जाता है कि इस मीनार में कभी भी कोई भाई-बहन साथ में दर्शन नहीं करता है। क्योंकि लंका मीनार की नीचे से ऊपर तक की चढ़ाई में सात परिक्रमाएं करनी होती है। जबकि सात चक्कर महज शादी में पति-पत्नी ही लगाते हैं। ऐसे में भाई-बहन का साथ जाना मना है।

मंदिर निर्माण की बात करें तो इसे करीब एक लाख 75 हजार रुपए में बनाया गया था। ये मीनार यहां करीब 20 साल से हैं। लंका मीनार को सीप, उड़द की दाल, शंख और कौड़ियों से बनाया गया है।

लंका मीनार में सौ फीट के कुंभकर्ण और 65 फीट ऊंचे मेघनाथ की प्रतिमाएं लगी हैं। इसके अलावा मीनार के सामने भगवान चित्रगुप्त और भगवान शंकर की मूर्ति है। मंदिर परिसर में एक विशालकाय सांप का भी निर्माण किया गया है। इसका स्वरूप बहुत विकराल है।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned