जवान लड़कियों को अगवा कर यहां किया जाता था यह गंदा काम, आज भी साफ सुनाई देती हैं उनकी चीखें

जवान लड़कियों को अगवा कर यहां किया जाता था यह गंदा काम, आज भी साफ सुनाई देती हैं उनकी चीखें

Arijita Sen | Publish: Dec, 12 2018 11:33:10 AM (IST) अजब गजब

आज एक ऐसे ही स्थान का जिक्र हम आज करने जा रहे हैं जिसे स्पेन का सबसे डरावना घर माना जाता है।

नई दिल्ली। भूत-प्रेत जैसी चीजें वाकई में दुनिया में है या नहीं इस विषय पर आज तक कोई ठोस प्रमाण उपलब्ध नहीं हो सका है, लेकिन अभी कुछ जगहें, किस्से, कहानियां ऐसी सुनने को मिलती हैं जो कुछ अद्भूत होने की बात पर मुहर लगाती हैं। आज एक ऐसे ही स्थान का जिक्र हम आज करने जा रहे हैं जिसे स्पेन का सबसे डरावना घर माना जाता है।

हम यहां कासा एनकांटडा की बात कर रहे हैं जो कि यहां का सबसे डरावना मकान है। यहां लोगों का ऐसा मानना है कि आज भी इस घर से लड़कियों के चिल्लाने की आवाजें आती है। रात होते ही दर्द भरी चीखें लोगों को सुनाई पड़ती है। आखिर ऐसा क्यों होता है? क्या है इसके पीछे का इतिहास? आइए जानते हैं।

कासा एनकांटडा नामक हवेली को कार्टिजो जूराडो के नाम से भी जाना जाता है। इसे स्पेन में स्थित शहर मलागा के हेरेडिया परिवार द्वारा बनवाया गया था। यह परिवार उस दौरान स्पेन के एंडलुसिया नामक क्षेत्र के सबसे धनी परिवारों में से एक था।उस दौरान इस मकान को एक भव्य कृषि उद्यम बनाने के लिए खरीदा गया था।

सन् 1850 में यहां अजीब-अजीब तरह की घटनाए होने लगी। रहस्यमयी सायों को चारों ओर घूमते देखा जाने लगा, कमरे में रोशनी दिखाई देती थी और अचानक गायब भी हो जाती थी। चीजें अपने आप जगह से हिलने-गिरने लगीं थी। अजीबोगरीब आवाजें सुनाई देने लगी।

दरअसल, ऐसा होने के पीछे का कारण हेरेडिया परिवार ही था। ऐसा माना जाना है कि उस जमाने में वहां के अन्य कई अमीर परिवारों के साथ मिलकर हेरेडिया परिवार 18-21 आयु की लड़कियों को यहां अगवा कर लाता था। तत्पश्चात काला जादू, टोना-टोटका संबंधी कार्यों को करने के बाद उन लड़कियों के साथ दुष्कर्ष किया जाता था और अन्त में उनकी हत्या कर उन्हें मकान के अंदर ही दफना दिया जाता था।

धीरे-धीरे वक्त बीता और साल 1925 में जुराडो परिवार ने इस संपत्ति को खरीद लिया, लेकिन
यहां की डरावनी और असाधारण गतिविधियां समाप्त नहीं हुई। आज भी हर रात उन मासूम लड़कियों की आत्माएं उस हवेली में भटकती रहती हैं और इंसाफ की मांग करती हैं।

 

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned