श्रीराम की इस जगह में अंधेरा होते ही छा जाता है सन्नाटा, नहीं होती है किसी के रुकने की हिम्मत

श्रीराम की इस जगह में अंधेरा होते ही छा जाता है सन्नाटा, नहीं होती है किसी के रुकने की हिम्मत

Soma Roy | Updated: 20 Sep 2019, 05:19:39 PM (IST) अजब गजब

  • dhanushkodi : रामेश्वरम द्वीप के किनारे स्थित है धनुषकोडी
  • भारत और श्रीलंका के बीच पड़ती है ये जगह

नई दिल्ली। दुनिया में प्रभु श्रीराम के कई भक्त हैं और उनके चमत्कारों के किस्से भी जग जाहिर हैं। मगर आज हम आपको रामचंद्र जी से जुड़े एक ऐसे रहस्यमयी जगह के बारे में बताएंगे, जिसकी सच्चाई जानकर आप दंग रह जाएंगे। इस जगह का नाम धनुषकोडी है। बताया जाता है कि रात के अंधेरे में यहां सन्नाटा पसर जाता है। यहां से अजीबो-गरीब आवाजें आती हैं।

तमिलनाडु के पूर्वी तट पर रामेश्वरम द्वीप के किनारे स्थित धनुषकोडी को भारत का आखिरी छोर कहा जाता है। ये भारत और श्रीलंका के बीच स्थित है। बालू के टीले पर मौजूद इस जगह की लंबाई केवल 50 गज है। बताया जाता है साल 1964 में आए खतरनाक चक्रवात से धनुषकोडी उजड़ गया था। इसमें सौ से अधिक यात्रियों वाली एक रेलगाड़ी समुद्र में डूब गई थी। तब से यह जगह मनहूस हो गई।

रात होते ही यहां का महौल बदल जाता है। लोग यहां से दूर चले जाते हैं और चारो तरफ अजीब-सा सन्नाटा पसर जाता है। जो कोई भी यहां रुकने की कोशिश करता है उसके साथ अजीबो-गरीब घटनाएं हुई हैं। लोगों ने यहां नकरात्मक शक्तियों को महसूस किया है। इस जगह की पौराणिक मान्यता भी है। बताया जाता है कि विभीषण के निवेदन करने पर भगवान राम ने अपने धनुष के एक सिरे से सेतु को तोड़ दिया था। इस कारण से इसका नाम धनुषकोटि पड़ा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned